Home Page

ओ३म् यदि आप देश, धर्म, समाज व आपके परिवार की सुख, समृद्धि, संपन्नता हेतु कोई कार्यक्रम आपके क्षेत्र में करवाना चाहते है और उसमें राहुल आर्य से मार्गदर्शन हेतु व्याख्यान सुनना चाहते है तो हमें सूचित करें। लंबे समय से सभी ओर से इसकी मांग उठ रही थी। अतः आपकी ओर से संतुष्ट होने पर अवश्य आपके यहाँ भी सत्य का प्रकाश होगा जो सभी अंधेरों को चीरता हुआ उत्कर्ष का रास्ता प्रबल करेगा।

Invite Rahul Arya To A Program

Why Thanks Bharat?

Bharat (India) is the land of the Wed (Veda). As we all know that Wed are the oldest book in the world library where religion and science go in hand to hand.

It is a fact, that all the sciences and art and religions, that are now found in the whole world, took their original start from Bharat (India).

Everyone can hunt the treasure of knowledge lying concealed in the Bharat. Because we tell about what Bharat has been giving to the world since the creation of the Universe.

Rahul Arya started Thanks Bharat in 2016 as a passion, and now it’s empowering more than 10,00,000+ people globally. We cover about Forgotten Books, Various Historical Treasures,  Lifestyle, Health & Domestic Problems, Religious Doubts, Education, Stories etc.

You can read more about Thanks Bharat at the “About” page.

120 Comments

  1. Rahul bhai l am trying to collect all knowledge in my mind what are you telling us.
    Thankyou for your precious work.

  2. Pranam Sirji,

    Main 1 suggestion dena chahta hoon iss ware main.

    Aap 1 archive banao e-books ke.
    Jaha pe

    4 Veda,
    6 Vedanta,
    11 Upanishads,
    Smriti, Samhita and Sutras,
    Adi Valmiki Ramayan,
    Adi Mahabharata ,
    Srimad Bhagbat Gita and Shrimad Bhagabat PURAAN by Shri Krishna Dwaipayan Vedavyas

    And other Swattik Purans ( Vishnu Puraan, Padma Puran, Narad Puraan, Garud Puran and Varaha Puraan ) ka asli version rahe.

    Agar Aisa hota Hain to saare original and unpolluted content rahenge. Aur koi Milawat nahi kar payega.

    Aur Aisa Jab hoga, mujhe aur samagra ARYAVART ke SANATANA/Arya Ko bohot santosh prapt hoga.

    And I will surely try to make this site reachable to everyone I know.

    Hare Krishna.

  3. भाई बहुत खुशी हुई । आपकी इस कोशिश में हमेशा आपके साथ हैं ।ईश्वर आपको अपार सफलता दे ।

  4. sir narsimha ji ki kahani kalpanik hi maniye.
    Ishwar har jagah upasthit hai to vo kisi khambhe ko ukhad kar kyon prakat hoga.
    beahmand ki rachna karne wale sarvshaktiman ishwar ke liye ek tuchchh danav ko marne ke liye avtar lena pade, ye to ishwar ki mahima ko kam kar deta hai.

  5. thanksbharat youtube video dekhar hi mai ne jana orginality hamara kya hai or bhrat kya hai..आपका बहुत-बहुत धन्यवाद 🙏🙏

  6. जय श्री राम
    राहुल भाई को मेरा प्रणाम
    .
    आप से जुड़ने के बाद ही मैं सत्य जान पाया,
    सही और गलत का अंतर पता चला,
    मैं यहां से जो भी सीखता हूं उसे दूसरे लोगों को भी बताता हूं ,ताकि वह अंधकार से प्रकाश में आ सके।

    अंध भक्ति और भय लोगों में कूट-कूट कर भरा है ,वह समझने का प्रयत्न ही नहीं करते और इसे झूठ मानने लगते हैं
    इन ज्ञानियों को ज्ञान ही अज्ञान प्रतीत होता है।
    जिसे मैं दूर करने की कोशिश करता रहूंगा आपके साथ मिलकर।
    आशीर्वाद दीजिए मुझे

  7. Thanks Bharat .com website बनाकर बहुत ही अच्छा किए। मुझे आपके इस कार्य से बहुत खुशी मिल रहा है

    सूरज
    थैंक्स भारत परिवार

  8. बहुत ही अच्छा कार्य भाई जी इससे समस्त विश्व को भारतीय संस्कृति और सभ्यता के बारे में जानकारी प्राप्त होगी ।आपका बहुत-बहुत धन्यवाद 🙏🙏
    इस वेबसाइट को बनाने के लिए।

  9. स्वामी दयानंद सरस्वती जी आपका मार्गदर्शन करते रहे।

    आपको सनातन धर्म की जानकारी पहुचाने के लिए धन्यवाद।

  10. Muja bhout acha laga ka humara bharat ma koi ha jo dash ka hinduon ka bara ma soch raha ha unn ko apna dharam ka giyan baant raha ha sab ko ja seekh lana chiya aur thanks bharat chanal ko subscribe karo like share b jarur karo

  11. Bhai aapse maine sikha chamatkar dharm nahi hota. Jo vaykti ko sahi jeene ka marg bataya woh dharm hota hai. Jiska anusran karne se sabhya samaj ka nirman ho.

  12. भाई जी आपसे जूड कर मेरे इतिहास मे वृद्धि हूई है।
    आपका आभार

  13. थैंक्स भारत परिवार ने मेरा जीवन कुछ ठंडे पानी में पड़े कीड़े गरम पानी करने पर एक एक मर जाते हैं उसी प्रकार मेरे जीवन की एक एक बुराई को साफ किया और मुझे शुद्ध अच्छे विचार वाला बनाया धन्यवाद राहुल भाई

  14. bahut achi or gyanvardhak website hai bhai… hinduo ko apne doubt clear karne ka ek platform mil gaya.. thank u thanks bharat

  15. नमश्कार,
    आपका यह धर्म का सफर सफल हो।

    जय हिंद

    भारत जयतु।

  16. सर पहले में हर किसी की बात मान लेता था धर्म की कोई भी जूठी कहानी हो लेकिन
    जब से आपको सुना है उसके बाद मेंओरो
    को भी बताता हूँ अपनी संस्कृति क्या है
    श्री कृष्ण जी की क्या थे और राम जी क्या थे
    मुझे बहुत शिखने को मिल रहा है ….अब
    में मनु स्मृति पढ़ रहा हूँ |

  17. Bhai aap ki wajah se mera Veda mei insterest aya. Pehle mujhe lagta tha ki sab jhuti khaniya likhi hui hai. Lekin aapki videos ki wajah se mei Sanatan Dharma ko samaj paya. Dhanyawaad bhai.

  18. सबसे पहले तो आपको नमस्कार है राहुल भाई,
    आप हमारे देश की संस्कृति और पुरातन धरोहर को लोगों के समक्ष प्रस्तुत कर रहे हैं इसके लिए आपका बहुत-बहुत आभारी और ऋणी रहेगा आज का युवा समुदाय, जब से मैं आप से जुड़ा हूं तब से हमेशा कुछ नया सीखने को मिल रहा है जो चीजें हमको नहीं मालूम कि अपनी प्रातः संस्कृति के बारे में सारी चीजें हमें आपके माध्यम से प्राप्त हो रहे हैं और हम अपने आप को बदला हुआ महसूस कर रहे हैं, हमें हमारी पुरातन संस्कृति पर जानकर गर्व हो रहा है इसके लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद.

  19. Sir,
    It’s a very good step. And I’m proud to be a sanatan dharmi. I want to provide a suggestion for this site. Please provide a library for those who wants to read our great texts like rig veda,bhagvad gita,manusmriti,and other purana and upnishads.And make it in pdf form. This is a request. I have started reading bhagavad gita just because of you. Thank you a lot

  20. चारों वेद g play store से download कर सकते हैं
    Play store के सत्यापन की गारंटी नहीं देता हूं

  21. Sabse pehle to rahul bhai ko bhot bhot badhai is channel ko start krne ke liye pr bhai bhai ek problem he apke channel ko kafi search krna padta he website khulti to he par vedic press valo ki khulti h thanks bharat ke nam se to ho sake to iska kuch kro ni to sab log vedic press padhkr hi vapas chle jayenge

  22. भ्राता राहुल आर्य आज आपके कारण मैंने अपने धर्म को जाना है, अधर्मियों को उत्तर देना सीखा है और अपनी संस्कृति एवं सनातन धर्म पर गर्व हुआ है। जय भारत, थैंक्स भारत।

  23. राहुल जी कृप्या करके नारद जी के बारे मे बताये इनका वरन हर जगह आता हैं

  24. I regularly watches thanks Bharat YouTube channel, I learned various things about sanatan dharam, I wish your youtube channel and your new and great website will be known to the whole world.

  25. Rahul arya ji
    Jo kaam aap kr rhe ho vo kaam mere bhi man me tha ki logon ko apni sanskriti apne dharam ke baare me btaya jaya unhe jaagruk kiya jaaaye or dharam parivartan kisi ka na ho
    Sabhi hindu bhaiyo ki apne dharam,desh,sanskriti pr garv ho
    Aapki mehnat dekh kr me bhi motivate hota hu

  26. Main jyada dharm ke uppar apna nazar nehin diathha , liking per jab main apka YouTube channel Dekha tab se main thodi bahat apni dharm ke uppar nazar lagaya hoon.
    Oor sanatan dharm ke kuchh books ko bhi padhne laga hoon.
    Dhanyabad apko ki ham Jaise bizuban ko zuban dia .🙏🙏🙏🙏

  27. Website मे उपर मे ऑप्शन होना चाहीए जिसे क्लिक करते ही हर विषय पर ऑप्शन हो जिसमे हम देखना या पढना चह्ते हो एक लाईन से आप ने विषय को दाल दिया है

    प्रयाश achha है पर सुधार के लिये कमेंट किया है ।

  28. नमस्ते प्रिय राहुल भ्राता ,
    हम तो आर्यो को इस प्लेटफार्म पर देखकर वाक़ई गद गद हो गए ,बहुत ही रचनात्मक कार्य किया है आपने आपके पुरुषार्थ को कोटि कोटि नमन ,परमेश्वर की असीम अनुकम्पा इस आर्यावर्त के आर्यो पर बरसती रहे,
    मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम चन्द्र की जय
    नमस्ते ओ३म

  29. U r doing a great job by knowing our Ved and knowledge hidden in it.u r leading the concept of Maharishi Dayanand view to come back to Ved.u r great.thanks

  30. लगे रहो राहुल भाई मैं आपके सारे विडियो लगभग देखता हूँ, बचपन से मेरे मन में ये आधी-अधूरी बात चलती है कि मैं लोगों की बातों से संतुष्ट नहीं हो रहा हूं , क्योंकि मन तो सदैव सच्चाई की तरफ मुड़ा रहता था। पर घटनाओं के पीछे का प्रणाम पता नहीं होता था, इसलिए लोग मुझे रटी-रटाई बात कहते ही नजर आते थे जिन पर स्वयं उन्हे भी विश्वास नहीं होता था।
    आपके वीडियो से मैं संतुष्ट होता हूँ, क्योंकि मन को सच्चाई नजर आता है, आखिर असंतुष्ट व तलाशी मन की तलाश थमी। जैसा मन ईश्वर की कल्पना करता, और विभिन्न घटनाओं के सच को जानने की कोशिश व कल्पना करता, वैसा आपसे जानने को मिला, और बहुत कुछ नया जानने काे भी मिला।
    ईश्वर आपको चिरंजीवी रखे।
    धन्यवाद।

  31. आपके साथ नहीं, तो आपके पीछे तो अवश्य चलेंगे व आपका हर तरह से पूर्ण सहयोग करने का प्रयास भी अवश्य करेंगे ह्रदय की गहराइयों से शुभकामनायें धन्यवाद राहुलजी

  32. नमस्ते
    यह एक बहुत ही अच्छा और बड़ा कार्य हो रहा है । आपको बहुत बहुत बधाई इस कार्य के लिए ।

  33. Thanks Bharat परिवार से जुड कर मुझे
    बहुत सारा ग्यान मिला है..

  34. School mein 1st language Sanskrit hona chahiye. Baccha daccha Sanskrit Ko pard sake aur Apna Itihas Jaan sake. Vedo Purano ko Pehchan sake, Hindu aur Sant Sanatan Dharampal gar kar sake

  35. बहुत ही अच्छा कार्य भाई जी इससे समस्त विश्व को भारतीय संस्कृति और सभ्यता के बारे में जानकारी प्राप्त होगी ।आपका बहुत-बहुत धन्यवाद इस वेबसाइट को बनाने के लिए।

  36. Om,Namste bhai aap sabhi ko
    Hmara karya hamesha badhta rhe..
    Hmara ak hi spna h कृण्वन्तौ विश्वमार्यम
    Ak din esa aana chahiye ki log jha bhi jay bhi unko arya hi mile..
    Thanks bharat site kisi din no1 pr laani h or y karya bhi ho jayega .

  37. मुझे वेद और मनुस्मृति की पुस्तक चाहीये मैं पुणे -लोनावाला मैं रहता हुँ

  38. मुझे वेद और मनुस्मृति की पुस्तक चाहीये मैं पुणे -लोनावाला मैं रहता हुँ

  39. आचार्य जी को कोटिशः नमनः
    आपके साथ कदम से कदम मिलाकर न सही किन्तु आपके चरणों का अवलोकन करके चलने की प्रेरणा जरूर मिल रही है
    यदि आप हमारे जीवन में न आते तो मैं अपने जीवन का औचित्य ही नही जान पाता आपको भूरिशः नमनः

      1. Dayanand Sarasvati is the greatest man the world has produced in the last millennium. It is a tragedy that India has almost forgotten him.
        However, it is wonderful that his legacy lives on in the form of young Aptas such as Rahul Arya. Living in the UK, it gives me great solace that such brilliant young people are doing such sterling work in fulfilling Dayanandji’s mission of making the whole world Aryan.
        May we produce hundreds and thousands more Rahul Aryas.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *