सत्यार्थ-प्रकाश परीक्षा प्रश्नपत्र Thanks Bharat

नीचे दिए गए 10 प्रश्नों के उत्तर सीमित शब्दों में (कम से कम शब्दों में संतोषजनक) उत्तर देवें। उत्तर संख्या डालकर (1, 2, 3 आदि) देवें। अंत में अपना पूरा पता व फोन नो भी देवें। यह प्रश्न पत्र केवल 1 घंटे तक ही आपको दिखाई देगा। एक ही कमेन्ट में सभी उत्तर व अंत में पूरा पता व संपर्क सूत्र देना होगा| लड़कियां अपना पता व मोबाइल no हमें thanksbharatmaa@gmail.com पर मेल करें| आपको कुछ समय बाद आपका कमेन्ट दिखेगा एकदम से नहीं| इसलिए परेशान होकर बार बार कमेन्ट न करें|

10 अप्रैल को विजेताओं के नाम व भाग लेने वालों के लिए 125 अमूल्य पुस्तकों के पीडीएफ लिंक सायं 6 बजे वेबसाइट पर ही दिए जाएंगे। pdf books भी केवल 1 घंटे तक यानी 6 से 7 बजे तक डाउनलोड की जा सकेंगी।

  • Thanks Bharat से आपके जीवन में क्या परिवर्तन आया है?
  • धर्मग्रंथों में मिलावट कैसे पहचाने?
  • हिन्दुओं का उत्थान कैसे होगा? केवल दूसरों को बुरा-भला कहकर अथवा स्वयं को पहचानकर? क्या आपको लगता है Rahul Arya सनातन धर्म के नाम पर आई बुराइयों पर अत्यधिक कठोर आघात करते है?
  • गुरुकुल में आपसी फूट पर दिए एक व्याख्यान का वीडियो आपने देखा होगा। आपसी फूट व द्वेष न्यूनाधिक सभी संगठनों, मित्र मंडलियों व परिवारों में है। व्याख्यान में हमने एक शब्द बताया था कि आपसी मतभेद की अवस्था में हम एक दूसरे को गाली देने के स्थान पर ……………………..।
  • प्रत्येक प्राणी किसकी प्राप्ति के लिए प्रयत्न करता है?
  • मनुष्य को कौन सा गुण महान बनाता है जिसको कुछ लोग दिखावा भी कहते है? क्यों? (V.Imp.)
  • आपका कोई एक गुण बताइये जिसको आप किसी भी कीमत पर खोना नहीं चाहोगे।
  • आपका कोई एक अवगुण बताइये जिसको आप दूर करने का प्रयास करोगे।
  • क्या आप प्रतिदिन ओ३म् का जप करते है?
  • आपके जीवन की कोई एक घटना जो अन्य लोगों के काम आ सकती है।
Share and Spread the Truth
800000

578 Comments

  1. 4- अपनी अपनी कमियों में सुधार करे।
    4 उत्तर पहली me नहीं दे पाया था इस लिए दूसरी comment ki है।

    आदित्य कुमार श्रीवास्तव
    8545990075
    मधुबन नगर आलमबाग, लखनऊ226005

  2. Q1- thanks Bharat make me a real Hindu a logical Hindu and vedik hindu.. I starts Dainik agnihotr. I stop wasting of my time with social media. I stop all that Rahul bhai said not to do.. in brief now I m a changed person in good sense.

    Q2- when the things are not correlated with one and the other teachings of sloks of holy books… means incidents are happening with a sequence… We can recognise that this is real.

    Q3- Hindu ka utthan Apne ap ko..or Apne Dharm ko jankr hi hoga.. jab hum Satya se parichit honge to jhhutt se svay hi prathak ho jayenge….. Yatharth jyan ko grahan krke or mitthya jyan ko chhodkr… Rahul bhaiya ke sabdon m “aam ko aam smjjhe or mirchi ko mirchi..to hm sabhi jyanvaan bn skte h.

    Gi ha Rahul Arya us hr burai pr kuttharagaat krte h Jo aj samajik or adhyatmik str pr Feli h. Or ye jaruri h . Bhagvan aisi Medha or sahas hr bhartvanshi ko de.

    Q4- ??

    Q5- pratyek prani atmik unnati ka prayatn krnta h.

    Q6-manusya Ko jyan or Vinay mahan bnata h..
    Vidhya dadati vinaym……… Vidhya rajsu pujyate nhi dhanm..
    Vidhya mhaan bnati h kyunki vo Satya Ko Jaan pata h or vidhya se hi bhatke hue samaaj Ko Sahi Disha m le ja pata h.

    Q7- maatrbhakti

    Q8- jealousy

    Q9- yes I do but only once in morning sorry.

    Q10- I can’t discuss but I want to tell my all freinds that never be disappointed….. Life is a struggle …. Haarta vo h Jo haar maan leta h…. Apne ap pe bharoosa kbhi mat khona or doosron pe Aankhen bnd krke kbhi bharoosa Mt krna…. jindgi jeetne wale ka Naam yaad rakhti h haarne wale ka struggle bhi so never give up . Rahul Arya meri life line Hein . Jinki vedeos and teachings ki vajah se m jinda hu.

  3. 1 mujhe sachhaii ka pata chala or mai dusro ko bhi is se avgatt kra rha hu.mera apne dharm ke lie maan sammaan badh gya.
    2 jaha bat ka matlab ni ban rha ho.pehle wale shlok se alag ho .
    3 hinduo ka utthaan sach ko jan ne ki utsukta se hoga ,khud ke bheetar ishwar ko jan ne se ,is srishti ke dharm ko jo 4 ved hai unki shiksha ko jankar hoga .rahul arya bilkhul sahi kar rahe hain..aaj jis mansikta ka log shikar hue hai..jo jaal logo ke dimaag par dala hua hai usko saaf karne ke lie dawa kadwi bhi lage to pee leni theek h.logo ko sochna chahie ye koi pagal nahi jo aise hi jor se chilla rha .grahast aadmi h bhai..
    4 shaastraath karte the..or sabya samaaj me aaj bhi shaastraarth hota hai..
    5 har manushya satya ki prapti k lie prayatn karta tha .vo satya jo ishwar hai khud ke bheetar basa hua.jiski koi seema nahi hai.par aaj har manushya lobh moh maya kaam ka pujari bana baitha h.
    ***Bhaiya me over hone wala hai

    9 han om namah shivay ka karta hu.sadhguruji ko maanta hu or sone se pehle dhyan ke bad bhi krke sota hu

    10 maine apni life me bhot se logo ko dekha parkha dhoka b khaya.galt sangat me b raha hu mai.but han 2 saal se uppar hogae or 1 saal sach me jeete hue hogya mai apne dharm ke lie karna cahta hu gyan lena chahta hu or bhi….samaj me rehkar sath hi apna kam karobar bhi kar raha hu..bas apne shubhchintak aise banae jo hamesha aapka sath khade ho..mushkil h par mumkin h
    Karan verma email-karanvermaclean2018@gmail.com address-plot no.460 sec 4 vaishali ghaziabad

  4. 1. thanks bharat se mere jivan mai yah pariwartan aya ki muje satya gyan mila jiske adhar pr meri sochne ki sakti badal gayi sabse badi bat andhvishwash se pahale bhi man me sikayat thi abi puri tarah se sikayat nahi h, jiwan ko ab hum samaj skte h.

    2. dhrma milawat ham aise jane ki jis pustak mai pahle jo bat kahi gayi ho bad ush bat ka hi khandan ho jaye aise tathya se milawat saf dikhti hai.

    3.hinduwon ka udhar tabhi sambhav h jab wo ye jan le ki dharm kya h wo juthe janjalo me na fase,
    nahi dusro ko bhala bura kahkar hindu ka bhala nahi ho sakta kkud ko pahchan na hoga, hindu dharm pr ayi buraiyon par to kuthara ghat karna hi hoga tabi satya ka pata chalega

    5. vastav mai pratek prani satya or atmasantusti ko hi pana chahta h pr chit ko ghere maya jal mai faskar wah satya se dur hota chala jata h lekin jab use sachayi ka anubhaw hota h to fir apne malin chit pr bahut glani hoti h

  5. 1.Vedic dharam ko samjhna aur kis samay pr konsa kaam krna chahiye iski preference rakhna.

    2.lines ke beech me virodhabhas na ho aur kisi aur dusre topic ki beech me baat na ho.

    3.vedic sanatan dharm ko practice me jaakar aur har baat ko tark ke hisaab se samjhkar

    4. Apna development krna chahiye

    5.Moksh

    6.Simplicity ..Kyo ki kutilta hi adhram h

    7.baat ko maane se pehle tark krna ..debate krna.

    8. Aalas

    9. No

    10. Kisi important kaam ko krne se pehle aur khtm krne tak ..kisi ko nhi batana chahiye

    Upendra singh

    78906343790

  6. 1satya ka gyanhua Mera jivanme
    2 tarkki kasautype
    3 bhaichare see
    4 vogvilashita
    5 Mann karma vachan Milanese admin Mahan bantahai
    6 satyako Sattya Janna
    7 kissing nindakarna
    8 has
    9 satyarshprakash padana air padana

  7. 1, Thanks Bharat से मेरा जीबन मे कोई परिबर्तन नही आया

    2, जो दिल को गाबारा नही बो धर्म नही , जो खुसी का कारण नही बो धर्म नही, जहा सिर्फ खुदका बारे सोचना हो बो धर्म नही, जहा क्ष्यमा और दया न हो बो धर्म नही, जो हमारा सोच बिचार को सिकुड़ता हो बो धर्म नही जो सोच बिचार को आजादी देता हो बो धर्म है

    3, हम बर्तमान युग के साथ जितना घुल मिल पाएंगे , जातपात, छुआछूत इन सब को जड़ से उखाड़ फेक्के, तथा सबको सुनके नहीं किसी पे कोई चीज थोपके अगर सभी को करुणा की दृष्टि से देख पाए तथा जरुरत पड़े तो अन्नाय के खिलाप लड़के ही हमारे हिंदुत्व को पूरा दुनिया में फैला सकते हे
    Thanks bharat कुछ अच्छा जरूर कहता और करता है पर सिर्फ सनी लियोनी को धिक्कार करके और हर बक्त दूसरे को छोटा करके जो हिंदुत्व फैलाने का बात सोचते हो यह गलत है, मुझे लगता है आपको थोड़ा सहनशील होना चाइये और थोड़े खुले बिचारो वाले बनना चाइये

    4, पता नही

    5, प्रत्येक प्राणी खाद्य, योनसुख तथा बंस बड़ाने के लिए प्रयत्न करते हे परंतु आत्मा मोक्ष के लिए प्रयन्त करता है

    6, दया

    7, महादेब के vakti

    8, भय

    9, सुबह में रोज ॐ का जप करता हु सच में यह दिल को बोहोत सकुंन देता है

    10, किस तरह का घटना बतायु बो आपने नही बताया

  8. 1). जिस प्रकार मकान की नींव अगर मजबूत हो तो मकान भी मजबूत ही बनता है, उसी प्रकार थैंक्स भारत ने मुझको धर्म का मूल समझाने का कार्य किया है, अब कोई विधर्मी हमारे सामने ना तो अपने मजहब की बड़ाई मार सकता है और ना ही हमको गलत ठहरा सकता है।

    2).हमारे पास अगर नक्शा ही ठीक नही होगा तो हम सही रास्ते से अवश्य भटकेंगे,,, जैसे कि हम सब जानते हैं कि हमने महाभारत के युद्ध के बाद क्या क्या खो दिया ओर पिछले डेढ़ हजार साल के तो कहने ही क्या! इसके बावजूद भी जब विधर्मी हमको,हमारी सभ्यता संस्कृति आदि को नष्ट नहीं कर पाएं तो उन्होंने धर्मग्रन्थों में मिलावट करवानी शुरू कर दी, इसमें कुछ दोष पाखंडी पंडितो का भी रहा है।
    लेकिन अगर हमारी किसी धार्मिक पुस्तक में परस्पर विरोधी बातें लिखी है तो हम तुरंत पहचान सकते हैं कि ये बाते किसी एक व्यक्ति की लिखी नही हो सकती।उदाहरणार्थ अगर एक किताब में एक जगह लिखा है कि मांस बिल्कुल नही खाना चाहिए और एक जगह लिखा हो कि खाना चाहिए तो हम तुरंत इस बात को पकड़ सकते हैं कि ये मिलावट है।

    3).हिन्दू आज अगर अंधकार में है तो उसका कारण है कि उसको अपने धर्मग्रन्थों से जो ज्ञान का प्रकाश मिलना चाहिए था वो नही मिला।
    रही बात दूसरों को भला बुरा कहने की,तो अब हमको ये बात अच्छे से दिमाग मे बैठा लेनी चाहिए कि इससे कुछ नही होने वाला,ये लड़ाई गली में लड़ते हुए उन कुत्तों की तरह की हो जाएगी जिनका कोई मुद्दा ही नही है और एक दूसरे में पूरे जोर से भौंक रहे हैं जोकि थकने के बाद शांत ही बैठ जाएंगे।अब समय है कि हम अपनी गिरवान में झांक कर,अपनी कमियों को पहचान कर उनको दूर करने का प्रयास करें।अब अगर हम जातिवाद को भी अंग्रेजों की फुट डालने की नीति कहकर अपने आपको घना शाना समझे तो उससे कुछ नही होगा स्वंय हमको इस दोष को दूर करना होगा जोकि केवल कहने भर से ही दूर नही होगा उसके लिए हमको प्रयास भी करने होंगे जैसे कि दलितों का भी यज्ञोपवीत संस्कार कराना।ओर राहुल भाई ऐसी बुराइयों पर अत्यधिक कठोराघात करते हैं इसमें कोई दोराय नहीं है चाहे हाथ मे बांधने वाले कलावे का विषय हो या महिलाओं के यज्ञोपवीत ना धारण करने का विषय हो जो हैउसको सही सही बतलायेंगे चाहे फिर इस पर हमारे हिन्दू ही विरोध क्यों न करने लगे।

    4).बिल्कुल सही शब्द तो याद नही ओर न ही अब देखकर लिखना चाहता,,,, लेकिन आपसी मतभेद की अवस्था मे एक दूसरे को गाली देने के स्थान पर हमको आपसी सामंजस्य से सही गलत का ध्यान रखते हुए व्यवहार करना चाहिए। ऐसी स्थिति में अगर हम महर्षि दयानंद जी की सत्यार्थ प्रकाश की भूमिका में लिखी बात याद कर ले तो बहुत अच्छा रहेगा–
    इस मनुष्य का आत्मा सत्य असत्य का जानने हारा है तथापि अपने प्रयोजन की सिद्धि, हठ, दुराग्रह, अविद्या आदि दोषों से सत्य को छोड़ असत्य पर झुक जाता है।
    अगर हम इस बात को याद कर ले कि कहीं हममें भी ये दोष तो नही आ गए हैं तो सम्भवतः सही दिशा में चल पाएंगे।

    5).प्रत्येक प्राणी अपने आनन्द को सर्वोपरि रखता है चाहे फिर परिणाम कितना ही बुरा क्यों न हो।मतलब कुत्ते को अच्छी खीर में मुँह मारना है चाहे फिट लट्ठ क्यो न बज जाए।उसी प्रकार मनुष्य ने भी वही काम जोड़ दिया है यहां मुझे एक श्लोक याद आ रहा है–
    येषां न विद्या न तपो न दानं, ज्ञानं न शीलं न गुणो न धर्मः । ते मृत्युलोके भुवि भारभूता, मनुष्यरूपेण मर्गश्चरन्ति।
    ये श्लोक आज की सिथति पर बिल्कुल सही बैठता है, मनुष्य उसी हिरण की तरह हो गया है।

    6).मनुष्य को उसका चरित्र महान बनाता है और उसको महान बनाने की शिक्षा हमारे धर्मग्रंथ व हमारे महापुरुष देते हैं। When wealth is lost, nothing is lost; when health is lost, something is lost; when character is lost, all is lost.
    वैसे ये बातें एक अंग्रेज ने कही है लेकिन मुझे लगता है सही बाते जहां से भी मिले हमे अपना लेनी चाहिए।

    7).मैं अपने सर्वश्रेष्ठ धर्म को किसी भी कीमत पर नही खोना चाहूंगा,हमारा धर्म हमको व हमारे चरित्र को जिस प्रकार घड़ता है उस प्रकार सम्भवतः कोई नही,इसलिए मैं इसको किसी भी कीमत पर नही खोना चाहूंगा।

    8).अवगुण तो हमारे अंदर छोटे छोटे बहुत हो जाते है लेकिन अगर हम उनको दूर करें तो उससे अच्छी कोई बात ही नही।लोहे पर भी जंग लग जाता है लेकिन उसको दूर करने के लिए भी उस पर रेगमाल घिसना पड़ता है उसी प्रकार हमको स्वंय को भी निर्मल बनाने का प्रयास लगातार करते रहना चाहिए। फिलाल तो मेरे अंदर एक ही अवगुण है कि मैं समय का पायबन्ध नही है लेकिन इसके लिए भी प्रयासरत हूँ।

    9).ओ३म का जप तो करता हूँ लेकिन निश्चित समय पर नही,,,जब खाली समय हो या रात को सोते समय।इसके लिए आज से ही प्रयास करूँगा कि सुबह शाम निश्चित समय पर कर सकूं।

    10).घटनाएं तो बहुत है लेकिन सबसे महत्वपूर्ण मैं इसी को समझता हूँ कि किसी जिहादी पर यकीन करने से पहले अपने डेढ़ हजार साल के इतिहास और उसके धर्मग्रंथों से काफिरो के लिए मिलने वाली शिक्षाओ को याद कर ले।

    राहुल भाई पता व फोन नम्बर मैं आपको मेल कर दूंगा क्योंकि मेरे पीछे सूवर पड़े हुए हैं।

  9. 1.अब धर्म के नाम पर कोई ठग नही सकता।ईश्वर का सत्य स्वरूप जाना पहले भ्रांतिया थी।
    2.कोई घटना जो प्रसंग के अनुकूल नहीं हो या वेड विरुद्ध हो वो मिलावट है
    3.एक विचारधारा(वो भी वैदिक विचार) के साथ एक होकर काम करने से। और युक्तिपूर्ण निर्णय लेकर
    Thanks bharat का कार्य निसंदेह महान है
    4.मतभेद हो सकता है लेकिन मनभेद नहीं होना चाहिए
    5.सुख
    6.चरित्र
    7.मै हार नही मानता क्योंकि ईश्वर की कर्मफल व्यवस्था पर पूर्ण विशवास है
    8.अक्सर late होना
    9.करता हूँ पर प्रतिदिन नही
    10.पता नही

  10. जय श्री राम

    आपके प्रश्नों का उत्तर इस प्रमाण है

    जवाब नंबर 1
    में अपने हिंदू धर्म को समझ सका

    जवाब नंबर 2
    यदि हम हमारे सनातन हिंदू धर्मों के ग्रंथों का अध्ययन ध्यानपूर्वक कर ले तो कोई भी ग्रंथों में मिलावट हुए हैं जान सकते हैं

    जवाब नंबर 3
    यदि हम हिंदू धर्म के लोग बॉलीवुड या टीवी सीरियलों में दिखाई गई हमारे धर्म की गलत कहानियां को सही ना माने,
    और अपने सही धर्म ग्रंथों का आचरण करें
    राहुल आर्य जी हमारे धर्म में सही क्या है यही दिखाते हैं

    जवाब नंबर 4
    आपसी मतभेद के स्थान पर हमें एक दूसरे का सहयोग करना चाहिए। मतभेद हो सकते हैं पर मनभेद कभी नही करना चाहिए।

    जवाब नंबर 5
    प्रत्येक प्राणी अपना जीवन सुखमय बने इसकी प्राप्ति के लिए करता

    जवाब नंबर 6
    दुख को सहन करने का साहस

    जवाब नंबर 7
    कभी किसी का गलत नहीं करना

    जवाब नंबर 8
    दूसरों के प्रति ईर्ष्या

    जवाब नंबर 9
    जब खराब विचार आए तब

    जवाब नंबर 10
    नहीं

    9624332898

  11. 1) Thanks bharat se judne ke baad mera atmm nirman hua hai aur mai abhi tuk arya to nahi ban paya purntha parntu rishi daynand ji ke sidhanto par chalne ki koshis karta hun

    2), dharmgrantho mein milavut jane ke liye phele apko sanskrit ache se sikhni padegi aur fir app apni budhi se galat chize nikal sakkten hain aur ved virudh chize hon.

    3) hinduo ka uthan tabhi hoga jaab vo dharm granth vedo ko padhen. Parantu ajj kul ki mcaulay sikhsa padati mein aisa kuch hud tuk hi possible hai. Isliye hume aise coaching centers kholne chaiye jo mcaulay sikhsa padati se padhaen aur sath mahapurushon ki biography bhi dikhaen bacho ki. Taki bacho ka mind wash na ho. Rahul arya ji milavut ke virodhi hain aur hum bhi aur ve humesha sumiksha karten hain naki khandan karten hain.

    4) humen apsi mut bhed ke summy mein ekk dusre ko gali dene ke bjaye ya to chup rhena chaiye ya fir sath mein baith kar apsi mut bhed ko khatum kar lena chaiye

    5) prateek vyakti gyan aur ajj ki vyavustha ke hisab se dhun ki prapti ke liye pryetan karta hai. Gyani vyati naye gyan ki aur bhata hai aur loobhi vyakti dhun ki aur

    6) manushy ko uske gun, karm aur svbhav mahan banate hain jo ki ved ke viprit nahi hone chaiye.

    7) vaise to mughme bhaut kamiyan hain jo mai sudharna chata hun par mere anadar ekkk adut hai ki mai kabhi bhi haar nahi manta. Na jane mughe kitni baar asaflta mili par mai prayas karna nahi choudta aur krodh bhi mere liye hatiayar sabit hota hai jab bhaut se pauranik mitra bevgha dayannad ji ko gali dete hain

    8) mera ekk avgun hai jo hai ki mai summy ke anusar nahi chlta (Puntuality ) nahi hai mughme thodi aur mai ise sudhar rha hun

    9) ji mai karta hun. Par mai age samadhi tuk jane ki prakriya bhi sumghna chata hun

    10) mere jivun mein mughe yaad hai ki mai ekk bar 11 class mein fail hogya tha parantu bhaut mhenut ke sath vapsi karke maine retest deke pass hua aur ajj mai b. Com kar rha hun

    8920686779

  12. 1. सत्य का अनुभव हुआ,आपकी बातों से सत्य पता चला वैसे तो पहले ही इसमें कुछ doubt लगता था। पर अपने दूर किया।
    2. बीच बीच के समान श्लोक को पहचानना और बीच के श्लोक को अगले कुछ श्लोक के अंदर पर हटा देना है।ताकि हैम शुध्द ज्ञान पा सके। जैसे मणिस्मृति में 25 व श्लोक से लेकर 42 वे श्लोक तक मास का लिख हुआ है। उसी प्रकार विमानशास्तर में भी खानपान के मंडल में मांसाहार का श्लोक है।
    3. हिन्दुओ का uthan सिर्फ जरूति कर कर हो सकताहैं पर कुछ हिन्दुओ पर मकोले के भूत ऐसे चढ़े है कि “मैंने आज की ही बात है नागपुर जा रहा था 1 औरत से पूछा कि आपका बेटा कितने साल का है और आगे कहा पर शिखाएँगे तो ओ बोली कि eगलिश मेडीएम में मैन कहा कि वैदिक स्कूल DAV में दाखिल कर दो। तो नही बोली।” अब इनको कैसे समजायाजाए।
    4. Support करना चाहिए छाए वो दुश्मन भी क्यों न हो, धर्म औरदेश के हमेशा मरने के लिए तैयार रहना चाहिए।
    5. प्रत्येक प्राणी आज की दुनिया मे पैसे के प्राप्ति के लिए प्रयत्न करता है, पर कुछ समुदाय ऐसे भी है जो पैसा हने के बावजूद भी अपने जातवालों को उभारने में मदत करता है। सिंधी परिवार/ समाज
    6. मनुष्य को दया, ज्ञान, दान ये गुण महान बनाते है। और कुछ लोग दिखावा भी कहते है। क्योंकि उनसे वो देखा नही जाता या किसी और का भला होते हुए वो देख नही सकते। इसीलिए वो उन्हें देखावा कर रहे ऐसे बोलते है
    7. दया
    8. मैं पहले बहुत जुट बोलता था। पर 1 साल आर्य समाज के साथ रहने के बाद मेरा ज़ूट बोलना बैंड हो गया है।
    9. हा सुबह नींद से जागने से लेकर सोने तक जब भी टाइम मील ॐ जाप चालू रहता है।
    10.कभी किसीपर विस्वास न करना
    Ulhas milake
    Akola maharashtra
    9284557156

  13. ★सर्वप्रथम में पंडित महेंद्र पाल आर्य जी एवं “सत्यार्थ प्रकाश” के द्वारा मैं धर्म के मार्ग पर चलने की ओर अग्रसर हुआ था।

    तदोपरांत राहुल भाई की वीडियोस देखा। शायद सबको यकीन ना हो लेकिन सबसे पहले मैंने राहुल भाई के चैनल पे “द पैसेंजर” शॉर्ट मूवी देखी थी।
    उसके बाद मैंने उनके कई सारी वीडियोस देखे जैसे के रामायण कि गलत बातों का खंडन इत्यादि जो कि काफी महत्वपूर्ण थे।

    मेरे दृष्टिपात में राहुल भाई हम युवाओं में पहले ऐसे व्यक्ति थे जो धर्म के विषय में प्रचार करने के लिए सामने आए थे उसके बाद अंकुर भाई।
    यह मेरे लिए बहुत अच्छा अनुभव था।
    क्योंकि नया नया धर्म के प्रति आकर्षित हुआ था।

    ★- वेदिक शास्त्रों में किसी व्यक्ति विशेष, किसी स्थान विशेष, किसी काल विशेष और परस्पर विरोधाभासी बातें नहीं होती।
    अगर इनमें से एक भी हो, तो वह मिलावटी है।

    ★- धर्म में आई बुराइयों को दूर करने के लिए हर एक आर्य प्रतिबद्ध है।
    हमें जितना हो सके उतना, जिस माध्यम तक हमारी पहुंच बनती है उस माध्यम तक सत्य का प्रचार करना पड़ेगा। बिना इसकी चिंता किए कि हमारा कार्य कितना सफल होगा! ताकि असत्य अपने आप स्वयं ही उजागर हो जाए एवं सर्वाधिक लोग आर्य बने एवं सत्य को माने।

    ★- क्षमा कीजिएगा, उस समय नोटिफिकेशन देखी तो थी परंतु वीडियो को नहीं देख पाया था।

    ★- सुख एवं आनंद।

    ★- अच्छाई। जिसे करने का दिखावा तो हर कोई करता है परंतु सच्चाई की धरातल पर सब फेल हो जाता है। उदाहरण के लिए सलमान खान की “बिग ह्यूमन” मदर टेरेसा कि मरीजों की सेवा वाली अच्छाई आदि-आदि।

    ★- बिना संकोच के मुंह पर सच्चाई बोल देना।

    ★- सिगरेट पीना। पहले जब इस्लाम से प्रभावित था तो दिन में कम से कम 7 और ज्यादा से ज्यादा 13 बार तक पी लेता था।
    आज के समय में दो दिन में 1 बार पी लेता हूं हालांकि इसे भी छोड़ना चाहता हूं, लेकिन छूटती नहीं।

    ★- बिल्कुल निसंदेह प्रतिदिन ईश्वर(ओ३म्) का जाप करता हूं।

    ★- मेरे जीवन की महत्वपूर्ण घटना यही है कि ईसाइयत और इस्लाम से प्रभावित होने के बाद मैं परमात्मा की कृपा से दोबारा धर्म के प्रति सशक्त बन गया।
    अन्यथा आज मैं आशीष नहीं आसिफ शेख होता।

  14. 1. Thanks Bharat or Rahul Bhai se judne KE baad mene wakai me jivan ka uddeds Kya hota h vo jana….KE hme iswar ne Kyu banaya h…pariniyo KE karm…or sbse bada badlav Hinduo me faila andhviswash.

    2.Prakaran ko samjh kr ya dhek kr hm dharam granth me milavat ko pechan skte h.

    3.Rahul ji Hinduo ka uthtan sirf khud ko pechan KE hi hoga…hmare rishio KE siksha or sirf ishwari Gyan matlab vedo se hi hoga…Rahul Bhai sanatan dharam PR jesa bhi aaghat kr ab chahe waha vinaramta se ye apni kadhorta se…main point h KE logo tk sahi or tark KE aadhar PR jankari poche…or isse buraiyo ka vinash ho sake.

    4. Apai mat bhed hone PR hmne ek dusre ko samahjna chaye kyuki matbhed hi dakte h lekin maanbhed nii….hme tark or praman KE aadhar PR baat krni chaiye…or vaha sabd h vhayvhar vyakt.

    5. Pratiek prani moksh or iswar prapti ka pratyan krta h..

    6.manushya ka purashar or usiki vinaramta hi usse Maha banati h.

    7. Me apne dhariya ko nahi khona chata…or me hi nahi balki sabhi ko dhariya rakhna chaiye.

    8.Krodh ek aisa gun h jisko me dhur krna chuga .

    9. Ji subha subha jb me gaytri mantra ka jap krta hu tb uskme sbse phele ओ३म् hi uccharan hota h.

    10. English me ek thought khete h…KE there is no shortcut to success …think aisa h hua jb me 11th class me tha or kisi ne mujhe mere sbse tough subject yani economic ka question paper ka lalach diya or mere se 500 repay KE demand ki fr jb mene usko kharida or agle din exam dene gya to SB chopat ho gya…r Paisa gya or fail ho gya.

    Name…Raja nema

    Address.. Hanuman baag colony, maharana Pratap road.thesel-.begumganj.. district..raisen …madhya Pradesh

    Mo. Number…8770193282

  15. Me binamrata ke sath keheta hun ki me apki puri puri 51 videos nhi dekh paya. Likin apka subscriber hun or aneko video dekhchuka hun.To mera uttar galat ho sakta he.Kripaya mejhe khyama karenge.

    1. Hamare sastro me jo milabati bat tatha sanatan dharm ke bare me jo mithya prachar ho rahene usi ko dur karne tatha satya ki jankari dena ka app ka prayas mujhe hamare dharm ke bare me jankari deraha he use me bahot prabhabit hun.

    2.Milabat ko pehechan karne kelie use bedo me diye hue gyana ke sath compare kare or logic scientifically socho.

    3.Swayam ko pehechan kar.Aap sahi kar rahenhe likin mejhe lagta he thoda kathor ho jate hen. Binamrata se bhi satya ko kehene se bhi ho sakta he .
    4. Saman sahit achhe se samjhana chahiye
    (Video nhi dekhi)
    5.khudka abhilasa ko prapt karne keliye .
    Likin insanko satya ki anusandhan karna chahiye.
    6.Unka achha karm (action/work). Kyunki karma hi he jo usko
    7.Satyata or Binamrata.
    8.Kabhi kabhi krodh or ahankar aajata he usiko durkarne ka prayas kar rahanhu.
    9.Nahi me pratidin omm jap nehi karta hun.Likin pratidin Bhagbat gita path karta hun.Hare krishna mahamantra or kei prarthana karta hun.
    10.Satya ka sath dena.
    Name- nilkanth suryawanshi
    Baradwar amar medical stor post baradwar dost janjgir champa

  16. 1.अब धर्म के नाम पर कोई ठग नही सकता।ईश्वर का सत्य स्वरूप जाना पहले भ्रांतिया थी।
    2.कोई घटना जो प्रसंग के अनुकूल नहीं हो या वेड विरुद्ध हो वो मिलावट है
    3.एक विचारधारा(वो भी वैदिक विचार) के साथ एक होकर काम करने से। और युक्तिपूर्ण निर्णय लेकर
    Thanks bharat का कार्य निसंदेह महान है
    4.
    5.सुख
    6.चरित्र
    7.मै हार नही मानता क्योंकि ईश्वर की कर्मफल व्यवस्था पर पूर्ण विशवास है
    8.अक्सर late होना
    9.करता हूँ पर प्रतिदिन नही
    10.पता नही

  17. 1.Thanks Bharat youtube channel ke wajeh se maine satya ko Jana hai tatha apne dharm, Rashtra aur Apne purwajo par garv karna seekha hai.

    2.Dharmgranth mein likhi hui baatein agar ek dusre se juri hui naa ho astu usme diye gaye vyakhyno ke vichar aur matt agar vinne ho toh hum ye samjhenge ki uss dharmgranth mein milawat hui hai.

    3. Nahi, Jo sanatani hindu kehete hai ki Rahul bhai ne Hindutwa ke buraiyo par kathor hokar bolte hai wea log samajh le ki Rahul bhai jaisa koi dusra Arya unhe bachane aane wala nahi. Jo samajhdaar hoga wo kisi bhi dharm mein ho sada satya ki aur lotega.

    4. N/A

    5. Pratyek Prani Moksha ki prapti ke prayatna karta hai.

    6. Manushaya ko Tyagi hone wala gunn mahan banata hai.
    Jo log kanjus hote hai aur dusro ko loot kar khud ameer hone ka prayas karte hai unhe aise tyagi tatha accche logo se nafraat hoti hai.

    7. Main bohut jigyasi vyakti hu aur main apne iss gunn ko kabhi khona nahi chahunga.

    8. Mujhe bohut jaldi gussa aa jata hai aur main apne iss awagunn ko dut karne ka prayas karta hu.

    9. N/A

  18. 1- Pahle main secular thi, esa lagta tha agar humare yaha sare bhagwan ek h bs puja karne ka tarika ek h to agar muslim bhagwan ko allah bol kar puje to kya fark padega, kintu thanks bharat se inke dogle pravarti k hone ka pata chala or ab me khud b satark rahungi or apne mitro , parivar jano, milne walo ko b satark karungi.

    2- Agar kisi granth me kisi sthan pr do bato me virodhabhas hota h, pahle manushya /prakarti/pashuo ko bachane ki baat ho or kuchh der baad unko marne ki baat ho athwa koi baat samapt hone k baad kuchh page chhodkar jb dusra vishay arambh ho chuka ho fir b bich me yadi pahle kahi baat ko khandan kiya jana dikhayi de to wo bilkul mahamilawat h.

    3- Hinduo me jagrati ayegi, dusre mat , sampradaye kesa khel khel rahe h ye baat jab jan jan me pahuch jayegi or jab hindu ek hokar apne atmsamman, sanskrity, or manawta k liye ladenge or apne dharm me sudhar karenge tab hinduo ka utthan hoga .

    4- Nahi pata.

    5- Ishwar ki prapti k liye .

    6 Aradhana yaa upasana jise aajkal dikhawa kahte bhi h or kuchh log dikhawa karte bhi h.

    7- Atmsamman.

    8- Aalas ( I am lezzy 😂)

    9- Roz nahi .

    10- Kuchh do saal pahle jab mere man me kisi man sampraday k liye koi matbhed nahi tha , me ek job karti thi. Waha sabhi jati k log job karte the or muslim kewal 2 the. Yaha tak ki waha raajput or sikkha b the jinhe bada bahadur samjha jata h. Mere pita ne humesha mujhe kisi ki galat baat nahi sahne ki shiksha di h or hume babao k pakhand se b dur rakha h. Kintu vrat upwas karte h kyuki brahmmin kul se ate h. Uss samay navratri chal rahi thi yahi chetra ki. Sikkha bhai b vrat rakhte hain humare yaha v raajput b v alag jatoyo k ladke v ladkiya vrat rakhte h. Uss samay ve log tilak lagakr ate h kyuki ek to subha puja ki hoti h ve dusra tilak mitaya nahi jata. Mene vrat nahi kiya kintu puja me sammilit hui thi to tika mere b tha.
    Ek muslim ladka jisko waha afzal guru k naam se bulane lag gaye the kyuki wo islam ka orachar karta tha. Ek navratri ko idhar udhar jakr kabhi sikkh bhai k pas kabhi kisi dusre ladke k paas kabhi kisi ladki k paas jakar burai kar ra tha ye vrat karke kya hoga? Isse to kuchh hota nahi h, ye to pakkhand h. Koi kuchh nahi bola. Kisi ne awaj nahi uthai.
    Uski badkismati ki wo akar mere pass b aakr bola, mere gusse ka bandh tut gya or mene bola tu roza rakhta h? Usne kaha haa. Mene puchha kyu pakhand karta h? Wo bol nahi paya usse pahle hi mene bola suar khayega 😂 bola me ye nahi bol ra tha fir mene bola tu hota kon h btane wala kisko kya karna chahiye kya nahi. Teri okat kya h? Wo bola thik h pr badtameez mere pass bethe ek ladke ko bolne laga ki are me to ye bol ra tha tumhare vrat karne se kya hoga. Me khadi hui boli uth ra h shanti se ya jute kha kar hi uthega. Wo bola ki me aapse baat nahi kar raha.
    Tazzub ki baat ye h ki itne badi jatiyo ki haankne wale ki hum bahadur h. Hum ladaka h. Koi nahi bola sab chupchap dekh rahe the. Ladke tak sab chup. Or wo kewal do muslim the. Fir b koi kuchh nahi bola.

    Fir mene uske upr chilla kar ki aaj k baad bakwas ki tk yaha se jaa nahi payega ghar tab jakar wo dar gya or dusre din se usne kabhi kisi ko kuchh nahi bola.

    Kintu dekhne wali baat ye thi ki koi sath nahi aata. H . Jago hinduo. Kaha gya shorya

  19. Jab se me thanks bharat se juda tab se mene apne jewan ka asli mahtwa paya thanks bharat ki sari videos me hamare satya sanatan dharma ke bare me bahut jankari mili jo hame kam hi pata thi sath jeene ka asli maksad ka pata chlta hai
    Mera nam neeraj
    Gaw pajena
    Po.office jiwai
    Ph-7247835792

  20. 1. Thanks bharat ne mere jiban me Bohot paribartan laya hey . maije apne Veidic dharma ko jana or Satyastya ka bichar karne main saksham hua .

    2. Grantho main se prakaran dwara milawat ko pehachana ja sakta hey .

    3. Hindu or aryo sirf apni satya sanatan Dharam ko pehchan kar hi uthan ho sakta hey . Dusro ke sath ladne se acha he unhe v gyan k bare main abagat karaya jaye .. rahul arya ji Ne jo kaam kiya hey Wo Hamere veidic dharam ke uthan k liye kiye hey . Dayanda ji k marg ko unhone age badhaya hey or rahul bhaiya ne Andhabiswas or pakhanda ko Hatene main karya rat hey . or usme hum v rahul arya bhrata ki Dilo jan se sath denge .bikul o birodhi or bhatke hue logo k liye ek pathpradarsak hain .

    4. Gali dene ke stan par aap Us byakti ko satya se awagat karana chaheye .

    5. moksha prapti k liye .

    6. Manusya ko parisram ka gun mahaan banata hey .
    parisram k bal par hi manusya mahaho sakta hey . log dikhawa esiliye kahte hain ki unko deste ki unnati par jalan hoti he

    7. Jaane ki Bhuk mujhe nahi khona

    8 .kabhi chori ka khayaal ata hey fir satyarth prakas ki Batain or Dharma ki siksha man main lake dur karne ka prayaas karta hun .

    9. subah or saam Gayatri manta k sath Om naam ka jaap karta hun .

    10 . Dayanad ji ka marg Maine Grahan kar Logo ko v grahan karne k liye Utsah pradan kiya hey .avi toh sirf 17 saal ka hu toh aisi koi v ghatana to nahi ghati hey . fir v mere ghar k log radha swami k bhakti main duba hua hey . unko nikaal ne ki puri kosis karunga .

    Name – Bhaskar Jyoti

    Adress – assam , Dist – Kokrajhar

    post office – Patgaon

    pin – 783346

    ph no .
    6026164728

  21. 1)Ved ka kuch gyan milla
    2)Hindu grant bahut se publication house publish krti hai , jo milawati hota wo 2 se 3 bhag mai bhi asakta , lekin aisa original k saat nhi hai
    3)स्व ko pehchan kar , yadi hum apni burayi aur achayi jaan le ,tab hi hum dusro ka and kya shi aur galat hai uska difference jaan sakte hai .Haan ninda krni bhi chaye
    5)har insaan uski prapti krna chahta hai jo dusra insaan kr rha hota ,
    Karma krna shi hai lekin wo karma sachi mehnat aur lagan se aati hai
    Ye kehna bilkul galat hai log moksha ki prapti krna chahte hai , as per kalyug
    6) kuch jaani ki chahat specially related to religion , to know the reason behind everything
    7)avguun bahut hai ,😂😂 ,koi ek kaha se bataye
    8)Nhi , but Shiv Bhakt hai ,
    Saare prashno ka maine utar nhi diya ,isko note kr le

  22. 1. Thanks Bharat or Rahul Bhai se judne KE baad mene wakai me jivan ka uddeds Kya hota h vo jana….KE hme iswar ne Kyu banaya h…pariniyo KE karm…or sbse bada badlav Hinduo me faila andhviswash.

    2.Prakaran ko samjh kr ya dhek kr hm dharam granth me milavat ko pechan skte h.

    3.Rahul ji Hinduo ka uthtan sirf khud ko pechan KE hi hoga…hmare rishio KE siksha or sirf ishwari Gyan matlab vedo se hi hoga…Rahul Bhai sanatan dharam PR jesa bhi aaghat kr ab chahe waha vinaramta se ye apni kadhorta se…main point h KE logo tk sahi or tark KE aadhar PR jankari poche…or isse buraiyo ka vinash ho sake.

    4. Apai mat bhed hone PR hmne ek dusre ko samahjna chaye kyuki matbhed hi dakte h lekin maanbhed nii….hme tark or praman KE aadhar PR baat krni chaiye…or vaha sabd h vhayvhar vyakt.

    5. Pratiek prani moksh or iswar prapti ka pratyan krta h..

    6.manushya ka purashar or usiki vinaramta hi usse Maha banati h.

    7. Me apne dhariya ko nahi khona chata…or me hi nahi balki sabhi ko dhariya rakhna chaiye.

    8.Krodh ek aisa gun h jisko me dhur krna chuga .

    9. Ji subha subha jb me gaytri mantra ka jap krta hu tb uskme sbse phele ओ३म् hi uccharan hota h.

    10. English me ek thought khete h…KE there is no shortcut to success …think aisa h hua jb me 11th class me tha or kisi ne mujhe mere sbse tough subject yani economic ka question paper ka lalach diya or mere se 500 repay KE demand ki fr jb mene usko kharida or agle din exam dene gya to SB chopat ho gya…r Paisa gya or fail ho gya.

    Name…Raja nema

    Address…. Hanuman baag colony, maharana Pratap road ..begumganj.. district..raisen …madhya Pradesh

    Mo. Number…8770193282

  23. १. मुझे कभी किताबो में कभी रूचि नहीं थी और धर्म ग्रंथो से तो दूर भागते थे पर Thanks Bharat की videos की वजह से मेने ग्रंथो को पढना शुरू किया और मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा परिवर्तन यही है |
    २. तर्क से जेसेकी मनुस्मृति में पशु को मारने वाले,उसको काटने बेचने और खाने वाले की निंदा करते हुए उसको कसाई कहा है वही आगे मांस खाने का सपोर्ट किया है ,एसे ही विरोधाभासो से मिलवाट को पहचाना जा सकता है |
    ३.हिन्दुओ का उत्थान सत्यप्रकाश जेसे ग्रंथो का स्वाध्याय कर के होगा रामप्रसाद जेसे महापुरुषो की जीवनी को पढ़ केर वेसा चरित्र बनाने से होगा,और स्वयं को पहचान कर होगा, Rahul आर्य जी सनातन धर्म की बुराइयों पर नहीं सनातन धर्म के नाम पर चलाई गई बुराइयों पर कथोरता से प्रहार करने की कोशिश करते है.
    ४.एक हो कर विधर्म को मिटाने का प्रयाश करे
    ५.सुख एवं शांति की
    ६.मनुष्य को नम्रता, सत्य को स्वीकारने और मनन करने का गुण महान बनाता है लेकिन कुछ लोगो को ये दिखावा लगता है क्योंकि वो खुद पुर्वग्रह से ग्रसीत होते है या तो अपनी मान्यताव पर ईमान ले आते है |
    ७. मै किसी भी कीमत पर अपने मानवता के गुण को नहीं खोना चाहता |
    ८. मै अपने आलस्य को दूर करना चाहता हु |
    ९.नहीं
    १०.मेरे जीवन में जो घटना घटी जिसकी वजह से मई आज sickular नहीं हु वो है कुरान पढना, हर व्यक्ति ख़ास कर हिन्दुओको कुरान ज़रूर पढनी चाहिए (तर्क के साथ और जेहंनुम की आग से डरे बिना )
    9559454225

  24. 1.सनातन धर्म को ठीक प्रकार से समझ पाया हूँ…
    और जो लोग मेरे धर्म पर उंगलिया उठाते थे अब उन्हें जबाब दे सकता हूँ।
    2. हिन्दू धर्मग्रंथो की मिलावट को पकड़ना है तो उस श्लोक को प्रकरण से मिला कर देखो।
    3.हिन्दुओ का उत्थान दुसरो को बुरा भला कह कर अथवा स्वयम को जानकर दोनो रूपो में कार्य करने से होगा।
    4.
    5.सनातन धर्म को मानने वाला व्यक्ति मुक्ति की प्राप्ति के लिए प्रयत्न करता है।
    6.एक सज्जन व्यक्ति का चरित्र ही उसे महान बनाता है
    जिसको लोग दिखावा भी समझते है।
    7.राष्टवाद।
    8.अति करना।
    9.जी रोजाना एक या दो बार।
    10. मैं रोज सूर्य उदय पर सूर्य नमस्कार करता हूं।
    आकाश माहेश्वरी
    8534930486
    कस्बा धामपुर पोस्ट धामपुर जिला बिजनोर उत्तर प्रदेश

  25. 1. थैंक्स भारत से हमे ये पता चला कि हमारा मूल धर्म क्या है, और हमारा सनातन धर्म कितना वैज्ञानिक और कितना पूर्व से है…

    2. धर्मग्रंथ में मिलावट पहचानने का सबसे आसान तरीका है उसको पूरा पढ़े और उसमें विरोधाभाष जहाँ जो दिखे उसे एक बुक में नोट करते जाए और विरोधी बातो को लिखे और उसको मूल ग्रंथ वेद से compare करे।

    3. धर्म की सच्चाई को जानना और उसका प्रचार प्रसार करना हमारा कर्तव्य और धर्म है, चाहे इससे हमारे भाइयो को आहत ही क्यों ना हो, धार्यते है इति धर्म: , जो धारण करने योग्य है वोही धर्म है, जो गलत हो रहाहै उस पर आप यानिकि राहुल आर्य जी सही प्रचार कर चाहे वो बात तीखी और कड़वी ही क्यों ना हो परंतु मूल धर्म को जानना एक हमारा कर्तव्य है जो धारण करने योग्य हो।

    4. सभी मत पंथ सम्प्रदायों को एकजूथ हो कर कार्य करना.

    5. प्रत्येक मनुष्य एवं प्राणी धर्म लक्षणम जैसे हमारे धार्मिक ग्रंथों में बताया गया है कि धर्म, कर्म, अर्थ द्वारा मोक्ष की प्राप्ति तक पहोंच ने का प्रयत्न करता है..

    6. एक कर्म ही ऐसा रास्ता है जो मनुष्य को उच्च और महान बनाता है, गुण स्वभाव हो उसके कर्म पर ही आधारित होते है और दिखावे के लिए लोग कहते है इसका कारण है वो अच्छे कर्म करने के बारे में ही सोचता है जो अधर्म से भरे है उनको अच्छा कर्म मायने नही रखता।

    7. एक सबसे अच्छा मेरा गुण मेरा धर्म को जानना अध्ययन करना और ये गुण थैंक्स भारत और अन्य आर्य भाइयो के चैनल से ही मिल हुआ है

    8. मेरा अवगुण चाय का नशा है जो मेने अभी 3 महीनों से उसको बहोत कम करदिया है जिसको में बिल्कुल बंद करना चाहता हूं..

    9. ॐ का जप में स्नान करते वक्त करता हूं… लेकिन मुझे इसका ठीक किस समय करना चाहिये ये नही पता।

    10. मेरे जीवन में एक मेने अपने मन की नही सुनी की में आगे बनकर मेरा लक्ष्य क्या था जो मेरे मित्र और relatives ने बोला वो ब्रांच मेने सेलेक्ट करली लेकिन अफसोस बादमे हुआ कि ये मेने गलत चुना तब तक मेरा आधा समंदर पार हो चुका था कहना यही चाहता हु अपने मन की सुनो।

  26. Namaste

    उत्तर1 में पहले हमेशा एक पौराणिक मुरिपूजक हिन्दू था लेकिन जब से thanks भारत को देखना प्रारम्भ किया है ये सब छोड दिया है शुरू के घरवाले भी डांटते थे लेकिन अब वो भी अच्छा व्यवहार करने लगे है अब तो हर सप्ताह हवन भी करता हूँ ये भी आपकी वीडियो देख कर ही सीखा हूँ।

    उत्तर2 : ग्रंथ में मतभेद नही होना चाहिए जैसे बोलै है कि औरत को मारना चाहिए और अगले chapter में बोल दे कि नही मरना चाहिए इससे मिलावट पहचानी जा सकती है।

    उत्तर3 : हिन्दुओ को सही धर्म बताना होगा
    सबसे अच्छा तरीका प्रश्न उत्तर , तर्क वितर्क ही है।
    बुराइयो का विरोध भी होना चाहिए राहुल भाई सही कर रहे है मुझे राहुल भी का dialogue याद आ गया ” meetha meetha gap , kadwa kadwa thoo” ऐसा नही होना चाहिए

    उत्तर 4 :हमे चर्चा से सुलझा लेने चाहिए

    उत्तर 5 सुख की चाहना करता है और मोक्ष यानी पूर्ण सुख पाने चाहता है

    उत्तर 6: सोचने की क्षमता सबसे महान बनाती हैं क्योंकि इससे जटिल से जटिल प्रक्रिया को सुलझाया जा सकता है

    उत्तर 7: जो तर्क वितर्क का गुण नही खोना चाहता

    उत्तर 8 मुझे घबराहट होती है इसे दूर करना चाहता हूँ

    उत्तर9 जी वी भी अर्थ सहित जो 1 सम्मुलस में ईश्वर के नाम के अर्थ बताए हैं

    उत्तर 10 नही

    नाम रामकरण
    नो 9817490860

  27. 1) Thanks bharat ne mujhe mere dharm ki un sach chizo se avgat krya jis k baare me har yuva ko pata hona chaye. Thanks bharat ne muje vedo ki vo baat bati jis ne mujhe i he padne k liye excited kr diya ha.

    2) dharm grantho me milwat pachane ek sabse sural tarika yeha ki. Sache grantho me ghatnaye ek dusre se judi hoti hai jabki milwat grantho me ek hi ghatna me anek fake ghatna ko utpan kr diya jata ha.

    3) hindu ka uthan sabse pahle satyprakash me likhi us baat se hoga jisme insaan k karmo k hissab se uski jaati ko batya gaya ha . Aaj jaati pratha ne snatan dharm ko kayi hiso me baat diya ha jiska fayda muslim log uthate ha or nirbal hindu ka dharm parivartan kr diya jata ha. Rahul bhai ki kathorta jayaz ha kyu ki mne kai baar news debate me suna ha ki hammare hi dharm k log muslim ko khete ki muslim dharam pr koi kuch bole tum unhe kaat doge. Jise samaj ye message jata ha ki agr muslim dharam ko kuch bolege tho kaat diye jaouge . Jiska karn ha ki bollywood me hindu k god pr hi film banti kyu hindu action nahi leta . Rahul bhai kator tha jayaz ha ye yuva o me urga utpan karti ha .

    4) mene ye video abhi nahi dekhi sir

    5) ishwar

    6) insaan k karm or uski jigysa use mahan banati ha jab tak aap me kisi chiz ko jaane ki jigysa nahi hogi tab tak aap ke karm bhi shai nahi honge.

    7) learn from everyone

    8) hesitation

    9) haa

    10) your patience is the key of any situatuon

    Name. Keshav Soni
    Address. Pratapgarh raj .
    Dhaiji ka darwaja
    Mob. 7372975984

  28. answers

    1ans. thanks bharat pariwar se mere jiwan me bahut badlav aaye ex. pariwar ke prati sajakta vadic dharma ke raste par chalna
    subah yoga karna desh ke prati sajakta
    2ans.tatheyao ka pramado ka kram badhya
    hona
    3ans. swayan ko pahchan kar dharmic kitabo
    se gude gudiyo pari pariyo ki kahani ko dant kathao ko jad se ukhad kar ji ha aap ke kaam
    se hi thanks bharat bana hai

    4 answer..Haram khor Haram ki khane wale

    5answer.wani gyan ki prapti
    6ans..manusya ko gyan mahan banata hai
    wah dikhawa lokpriyta fan following dhan kamane ke liye durupyog karte hai
    7ans. satya bolna khul kar vichar rakhna
    8 answer. mobile phone addiction
    9ans.ha
    10ans. hamare gau me kuch dalit bhai hai
    or tatha kathit Bramham to unme chua chuta
    ki sabse badi problam hai mai nahi manta or
    unhi ke saath mai jada tar apne kriya kalap karta hu is karan mere viradh bhi hota hai

    name . puneet tiwari
    mob. 7999907422
    address. s/o vinay tiwari
    ward no. 12
    village.barahana
    post.barahana
    tahsil.kothi(raghurajnagar)
    dis. satna (m.p)

  29. 1:— THANKS BHARAT sey Mai secular sey Sanatan dharm k assliat Jana roj Mai abb yoga krta hu ur sath Mai ye v ki chitra ka nahi charitra ka puja krna chaiye.

    2:—Isskey liye hmmye read between the lines padhna hoga sath Mai phelley pura padhey uskkey baad contradictory ko pahchan KR.

    3:— Hindu k utthan k liye hmmye jatti nahi warn bhayashtha thi ye sbko btana hoga sath Mai ye v batana hoga VED ki Gyan ur sath Mai mahila ko male sey ek kadam upar battaya gya h…..ur ye v ki dharm ka raksha k liye hatiyar v uthhana padey toh uttho q ki aisa koi v iswar nahi jinkey hath Mai sastra na ho ……ur har district Mai ek sanghathan bana hoga hindwo k rakhsha k liye…….ur apna Sacha history battana hoga ur hoga jbb ttkk hm GURUKUL na khloye……….uttna to nahi lekin kuch kuch baat sey eg.swami Vivekananda sey ISKON walley pr thoda bhut lekin wo Christianity ko counter v to Kiya sath Mai foreign Mai v sirf ye dono set

    4:—mere khlay sey ek dusro ko sahyog krna chaiye ur Jana chaiye ki dharm h to gurukul h ur gurukul h to dharm h…….ur prachar prasr karna chaiye gurukul ka

    5:–khusi santti ur Santosh k liye

    6:– Gyan + vinarm

    7:–Dharmki raksha ur rastraprem

    8:–6 bagey uttha hu bramhmurraat (4:00-4:30 am)Mai jagnney ka prayas karunga

    9:—yes Yoga k sath ur dhan karnney waqt

    10:—yahi ki THANKS Bharat ur phuspendr khuswa ur Article 35A battana

  30. 1. Thanks Bharat you tube channel ki vajah se mein Apne Hindu dharma ko jyada nazdik se Jaan paa raha hoo. Is channel ki ek khasiyat hai ki ye sab tathyapoorna batate hai. Thanks Bharat channel ki madad se grantho mein angrezo ne milavat ki hai iske baare mein pata chala aur iske liye unka thanks
    Aur sir ki madad se mein Jaan paya ki ved ishwariya gyan hai aur kitne mahaan hai aur is vajah se mein ved padhne ke liye motivate hua hoo. Mein ek science student hoo aur vedon mein pure science hai isliye bhi mein ved padhna chahta hoon. Sir ki madad se mein vedo ki mahaanta Jaan paya aur padhne ke liye motivate hua hoo.

    2. Jaisa ke sir ne bataya Ramayana ka example dekar ki – koi ek shlok hai maanlo us se related agar agla shlok nahi related lagata ya phir bichhme hi koi dusri baat prarambh ho jaaye toh usme milavat hai. Is se book ki length badh jaati hai jaise sir ne ek video mein Ramayan, Mahabharat ki book dikha kar samjhaya.

    3.Sir Hinduo ka utthan hoga khud Ko khud ke itihaas Ko Pehchan kar. Hamari poorani systems jo aaj bhi kaargar saabit ho Sakti hai unhe dobaara laakar example education system. Hamara education system jo angrejo ne tabaah kar diya use vaapas la kar i.e Gurukul paddhati. Sir aaj kal tv par gandi chize dekh kar hamare yuva pidhi galt Disha mein Chali jaati hai unka bramhacharya naash ho jata hai aur is se bhayankr chize Hindu samaj mei fail gayi hai toh agar Gurukul Shiksha vapas prarmbh ho jaye toh log guru ke guidance mein rahenge aur achha charitra nirmaan karenege aur ved bhi padhenge jiski madad se hum hamre rashtra Ko nahi uchayion par le ja payene
    Rahul bhaiya aayina dikhate hai booraiyo par kuritiyo par kada aaghat karke sahi karte hai aur Satya Ko ujagar karte hai.

    7. Sir mein kabhi cheating karna pasand nahi karta aur mein chahta hoon ki mein Apne is imaandari ke goon Ko kabhi nahi chhodu. Isliye jo sawaal mujhe aate hai mein unke Uttar poori imaandari se doonga cheating. Nahi karunga matlab kuchh bhi man se nahi daalonga poori sacchai se Uttar doonga

    8. Sir baar baar Apne kartavya path vimukh ho jaana ye avgun hai jo mein chhodna chahta hoon

    5. Sir pratyek praani Khushi aur Samadhan paane ka prayatna karta hai. Ku ki Khushi Samadhan paane ke liye log job karte hai paise kamate hai jise unka parivaar chalta hai aur unhe Samadhan milta hai Sir alag log alag chizo se Samadhan pate hai jaise kisiko samajseva se Samadhan kuhsi milti hai

    6. Manushyo Ko mahan unke Sanskaar banate hai foundation banate hai woh kehte hai na ki jis imarat ki neev majboot woh imarat majboot

    9. Sir mein om ka jaap nahi karta roj lekin Shrimadbhagvad gita padhta hoo aur roj Kanha ji ke naam ka jaap karta hoon

    10. Jan mein Chhota tha school jata tha toh mujhe ek Baar kisine ber lane ke liye 5 rs diye mein voh ber le aaya lkin woh admi vaha tha nahi jis vaja se meine woh kha liye the badmein woh admi aaya toh mere paas ber nahi the woh meri galati thi meine badme mafi mangi
    Ye ghtna mujhe aajtak kisi Ko bhi Dhokha dene se roktj hai aur mein chahunga ki log is se samjhe aur kisiko bhi Dhokha na de
    Name – Akshay D kadu
    Address – Sai Krupa nivas apt Upadhyay road Mahal nagpur
    Phone no.- 8208032587

  31. 1. मैं अब श्री राम और श्री कृष्ण जैसे मनुष्यों को भगवान न मानकर उनकी पूजा करने के अलावा उन्हें महान मनुष्य मानकर उन्हें अपना आदर्श मानकर उनसे सीखने का प्रयास करता हूं।
    2. धर्म ग्रंथों में जो भी बात मानव धर्म के विरुद्ध जाकर होती है वह मिलावट है।
    3. हिंदुओं को उनके इतिहास सें और उनके धर्म की सच्चाई से परिचित कराना होगा और उन्हे बताना होगा की भारत हमेशा से महान है। आत्मरक्षा और धर्म की रक्षा के लिए शस्त्र चलाने में भी कोई बुराई नहीं है। राहुल आर्य जी बिल्कुल सही कार्य कर रहे हैं।
    4. स्वयं को दूसरे के स्थान पर रखकर दूसरों को समझना चाहिए।
    5. मोक्ष।
    6. ज्ञान अर्जित करना और चीजों को समझने की शक्ति मनुष्य का गुण है ।जो कभी कबार कुछ लोगों में ज्यादा हो जाती है और लोग उसे दिखावा कहते हैं।
    7. दया
    8. सवेरे जल्दी न उठना मेरा अवगुण है। जिसे सही करने का मैं प्रयास करूंगा।
    9. नहीं।
    10. जब से मुझे सही और गलत का आभास होना शुरू हुआ है तब से मुझ में आत्मविश्वास की बहुत प्रगति हुई है मैं अब 100 लोगों के सामने भी अपनी बात बिना डरे रखता हूं।

  32. 1. मेरे जीवन में जो पाखंड, अंधविश्वास, ढोंग, आदि थे उनका खंडन हुआ और सत्य धर्म का मंडन हुआ।
    2.अगर ग्रंथ में किसीं एक विषय का मंडन चालू है और उसमे उस विषय के विरुद्ध बात चालू हो चुकी हो तो ओ ग्रंथ मिलावटी है। क्योकी कोई लेखक एक ही ग्रंथ में विरोधाभास नही कर शकता।
    3. हिंदुओ का उत्थान खुद को पहचानकर ही होगा।
    आगर राहुल भ्राता बुराययो पर कठोर आघात कर रहे है इसी करण अधिक लोग पाखंड को त्यागकर पुनः आर्य बन रहे है।
    4.शिक्षा देकर प्रेम से रहे।
    5.ईश्वर के शोध के लिये।
    6.बुद्धी ये गुण मनुष्य को श्रेष्ठ बनात है। लेकीन कुछ लोगो को ये दिखावा लागता है।
    7. निस्वार्थी होणा।
    8.अभिमान
    9.जी बिलकुल करता हूं।
    10.पुनः सत्य धर्म के पथ पर चाल पडा।

    नाम:-प्रेमराज वारे
    नंबर:- 7588810181
    पत्ता:-चोपडा लै आऊट, बस स्टँड के पास बुलढाना, महाराष्ट्र।

  33. १ . 🛑 थॅक्स भारत के वजह से में आर्य बना हु । वैदिक धर्म का राही बना हु । यही परिवर्तन मेरे जिवन मे आया है 🙏

    २ . 🛑 अनुमान प्रमाण की मदत से…मतलब सब घटनाए सच्चे नियमो को पकडकर एक के बाद एक होनी चाहिए । यदी ऐसा नही हुआ तो वो बाते गलत है । इसकी सहायता से ही हम धर्म ग्रंथों में मिलावट पहचान सकते है ।

    ३ . 🛑 हिंदुओं का उत्थान मनुस्मृति के राह पर चलकर होगा ।
    राहुल भाई बहुत अच्छे से तथ्यों के आधार पर सनातन धर्म की बुराईया पर कठोर से आघात नही करते ।

    ४ . 🛑 उपेक्षा करें ।

    ५ . 🛑 सुख ।

    ६ . 🛑 चरित्र, क्योंकि बिना चरित्र के व्यक्ति का समाज में कोई स्थान नही ।

    ७ . 🛑 वैदिक धर्म की राह पर चलना ।

    ८ . 🛑 आलस्य ।

    ९ . 🛑 हा ।

    १० . 🛑 आर्य समाज का ज्ञान प्राप्त करना ।

    1. 🛑 पता –
      गाव – आसडी, तालुका – सिल्लोड जिल्हा – औरंगाबाद राज्य – महाराष्ट्र

      🛑 संपर्क क्रमांक –
      ९११९४६३६३१

  34. 1 उत्तर अंधविश्वास से सत्य की ओर जो जैसा है वैसा मानने लगा हु । हमारे महापुरुष गुणों को धारण करने का निरन्तर प्रयास कर रहा हु ।मेरी विचारो में सकारात्मक परिवर्तन हो रहा है।
    2उत्तर जो जो वेद और प्रकृति के अनुकूल है वह सत्य है
    जो विरुद्ध है वह असत्य । कारण सहित कार्य हो पूर्व प्रकरण से जुड़ा होन चाहिए इससे किसी मिलावट जाना जा सकता ह
    3 उत्तर गुरूकुलीय शिक्षा एवं पाखण्ड को दूर करके स्वाभिमान ओर स्वावलंबन होने पर ।राहुल आर्य समाज में फैले अंधविश्वास खत्म करने में लगा जिससे सनातन धर्म का पतन हुआ
    4 उत्तर
    5 उत्तर मोक्ष
    6 उत्तर चरित्र
    7 उत्तर सत्य को जानने।
    8उ

    शुभम बोढे
    9340849175

  35. Me binamrata ke sath keheta hun ki me apki puri puri 51 videos nhi dekh paya. Likin apka subscriber hun or aneko video dekhchuka hun.To mera uttar galat ho sakta he.Kripaya mejhe khyama karenge.

    1. Hamare sastro me jo milabati bat tatha sanatan dharm ke bare me jo mithya prachar ho rahene usi ko dur karne tatha satya ki jankari dena ka app ka prayas mujhe hamare dharm ke bare me jankari deraha he use me bahot prabhabit hun.

    2.Milabat ko pehechan karne kelie use bedo me diye hue gyana ke sath compare kare or logic scientifically socho.

    3.Swayam ko pehechan kar.Aap sahi kar rahenhe likin mejhe lagta he thoda kathor ho jate hen. Binamrata se bhi satya ko kehene se bhi ho sakta he .
    4. Saman sahit achhe se samjhana chahiye
    (Video nhi dekhi)
    5.khudka abhilasa ko prapt karne keliye .
    Likin insanko satya ki anusandhan karna chahiye.
    6.Unka achha karm (action/work). Kyunki karma hi he jo usko
    7.Satyata or Binamrata.
    8.Kabhi kabhi krodh or ahankar aajata he usiko durkarne ka prayas kar rahanhu.
    9.Nahi me pratidin omm jap nehi karta hun.Likin pratidin Bhagbat gita path karta hun.Hare krishna mahamantra or kei prarthana karta hun.
    10.Satya ka sath dena.

  36. 1.Thanks bharat se mere jeevan bahut parivartan aya hai sahi aur galat ko kaise pahechane mujhe he malum pada hai..
    2.jo sabdh, arth aur unke bich so samban ho vo ek dusre se judi honi chahiye.
    3.hindu ka utthan apne ap ko pahichanne se hogi.
    5.pratyek prani sukh ke prapti ke liye prayatna karta hai aur sukh kisi prapti dharm se hoti hai.
    6.acche karm aur log aisa isliea kahete ki wo aisa kar nahi sakte.
    7.gyan.
    8.bure karm.
    9.han.
    10.satyarth prakash jo har kisi ke kaam aa sakti hai.

  37. 1. Thanks Bharat se mai apne manav dharm ko achche se samajh saka hun.
    2. Jin grantho me avejyanik evam kahani itihas aadi ka vardan hoga, we dharm granth milavti hinge.
    6. Pratyek vyakti ko uska manav dharm hi mahan banata hai…
    Name- Rituraj Mahto
    Village saraikela
    District –
    Saraikela
    State- jharkhand
    Phone number – 7644006068

  38. १. मांसाहारी से शुद्ध शाकाहारी बन गया ।
    २. उनमें से एक यह तरीका – एक ही ग्रंथ में दो विरोधा-भासी बात है तो मिलावट है ।
    1. Non-Veg se pure veg. Ban gaya.
    2. Unme se ek tarika: agar ek granth mein do virodhabhaasi sloak/baate likhi hui hai to milawat hai.
    3. Apne dharm ko sahi sahi sabhi ko jagruk karakar, swayam ko pehchaankar, aap bilmul sahi kar rahe hai rahul bhaiya.

  39. 1. Thanks bharat se sanatan, sarvabhaum gyan kaun sa hain wo pta chala
    2. Dharma grantho me milavat hain ydi usme virodha bhashi bate hain, shaili mein bhinnata hain
    3. Hindu ka utthan vedo ka adhyayan krke unhe apne aacharan mein lake hi kiya ja skta hain
    4. __
    5. Pratyek prani mox (freedom) ke liye prayatna krta hai
    6. Vinamrata, jo ki adhik se adhik logo me hoti hain.
    7. Koi bhi faisla bina soche na lu.
    8. Aalas
    9. Nahi
    10.

  40. answers

    1ans. thanks bharat pariwar se mere jiwan me bahut badlav aaye ex. pariwar ke prati sajakta vadic dharma ke raste par chalna
    subah yoga karna desh ke prati sajakta ab
    aap ved dege to or rasta sugam ho jaye ga
    2ans.tatheyao ka pramado ka kram badhya
    hona
    3ans. swayan ko pahchan kar dharmic kitabo
    se gude gudiyo pari pariyo ki kahani ko dant kathao ko jad se ukhad kar ji ha aap ke kaam
    se hi thanks bharat bana hai

    4 answer..Haram khor Haram ki khane wale

    5answer.wani gyan ki prapti
    6ans..manusya ko gyan mahan banata hai
    wah dikhawa lokpriyta fan following dhan kamane ke liye durupyog karte hai
    7ans. satya bolna khul kar vichar rakhna
    8 answer. mobile phone addiction
    9ans.ha
    10ans. hamare gau me kuch dalit bhai hai
    or tatha kathit Bramham to unme chua chuta
    ki sabse badi problam hai mai nahi manta or
    unhi ke saath mai jada tar apne kriya kalap karta hu is karan mere viradh bhi hota hai

    name . puneet tiwari
    mob. 7999907422
    address. s/o vinay tiwari
    ward no. 12
    village.barahana
    post.barahana
    tahsil.kothi(raghurajnagar)
    dis. satna (m.p)

  41. राहुल भाई जी पीडीएफ कहां मिलेगी मुझे तो यही समझ में नहीं आ रहा कृपया भेज दीजिए ऑप्शन ही नहीं आ रहा

  42. 1-विवेक का विकास हुआ है… गलत और सही को पहचानने की तथा हर बात को गहराई से समझने की क्षमता आई है…जो जानकारी मिली है अपने धर्म की उसके कारण एक स्वाभिमान उत्पन्न हुआ है मुझमें.. और धर्म को धारण अब जाकर कर पाया हूँ अन्यथा मेरे प्रश्नों के उत्तर thanks bharat के अलावा कोई भी नहीं दे पाया।
    2- एक बात हमेशा याद रखें कि परमात्मा के श्रष्टि के कुछ नियम बनाएँ हैं और वो सार्व भौमिक सार्व कालिक सत्य हैं और उन्हें परमात्मा भी नहीं तोड़ सकता
    ये अशुद्धता अलग – अलग ग्रंथों में एक दूसरे का विरोधाभास करायेंगी और ज्ञान-विज्ञान का विरोध करेंगी
    जब तक किसी विषय पर पूर्ण रूप से जानकारी उपलब्ध ना हो विश्वास ना करें इस तरह से धर्म ग्रंथों में मिलावट पहचानी जा सकती है
    3- हिंदू धर्म का उत्थान सिर्फ तभी हो सकता है जब आने वाली पीढ़ी को धर्म की सही शिक्षा दी जाए…और गुरुकुलों के विरोधी विचार जैसे वहाँ सिर्फ पूजा पाठ सिखाया जाता है उन विचारों को विशाल स्तर पर सरकार की सहायता से जन-जन तक पहुंचाया जाए। जब तक सभी को अपने धर्म की पूर्ण जानकारी नहीं होगी तब तक दूसरे हम पर आघात करते रहेंगे उन ही कमजोर बिंदुओं पर जो उन्होनें स्वयं उत्पन्न किए हैं दूसरों पर आघात तभी करें जब वो आप की ओर उँगली उठाएँ अन्यथा बोलने से केवल आप दूसरे के मन को पीड़ित करेंगे जो आपके धर्म का सम्मान करे आप उनका सम्मान करें। सर्व प्रथम अपनी गलतियों को मानना सीखें,जो गलत है उस बात का विरोध करें।
    4- जब अहम आएगा तथा स्वार्थ सिद्धि आएगी तो कोई भी संस्था नहीं चल पाएगी।
    5- ज्ञान
    6- सादगी क्योंकि उनके लिए सादगी से जीवन व्यतीत करना जैसे असंभव होता है वो सोच भी नहीं पाते कि कोई व्यक्ति सादगी जैसे गुण कैसे रख सकता है
    7- जिज्ञासा…
    8- अपने मन पर नियंत्रण करने क्षमता की कमी
    9- जप तो नहीं करते परंतु दिन में कई बार मुंह से निकलता है
    10- नहीं

    9997732155

    496 Bari Baman puri Bareilly up

  43. 1 Thanks bharat से हमे धर्म की सच्चाई जानने की प्रेरणा मिली ।

    2 आपने रामायण हनुमान जी की एक घटना की सच्चाई बताई जो हम लोगो को सिख दी कैसे धर्म ग्रंथ में मिलावट को अपना सोच विचार से अलग करना है ।

    3 अपने धर्म को जान की जानकारियां ज्यादा से ज्यादा ले कर ही हमारे धर्म का उथान होगा, ओर राहुल आर्य ने भी इसी रास्ते को चुन कर दूसरे धर्म की त्रुर्ति की खोज की मेरे विचार से
    4

    5 मोक्ष की, सत्य की, ज्ञान की।

    6 मनुष्य को उसका ज्ञान ही महान बनाता है।

    7 मुझे अपने सत्य की राह पे चलने से बहुत प्यार है और मैं इसे कभी नही खोना चाहता

    8 गलत बात पे गुस्सा बहुत आता है पर मैं ऐसे मैं अपने आप को शान्त करने की कोशिश करता हूँ।

    9प्रतिदिन तो ॐ का जप तो नही कर पाता पर कुछ न कुछ ऐसा जरूर करता हूँ कि ॐ का उच्चारण रोज कर ही लेता हूँ।

    10 मैन अपना जीवन का कुछ समय मुसलमानो के बीच बिताया है जिनके बीच मुझसे हिन्दू को लेकर बहुत सवाल पूछे जाते थे जो मुझे बहुत कष्ट दिया है आज मुझे बहुत गर्व महसूस होता है।
    Mera No. 8602566169
    Harshit malviya
    Harshmlviya263@gmail.com

  44. राम राम राहुल भईया।
    १-Thanks Bharat से जुड़ने से पहले में बाबाओं के वीडियोस देखता था और धर्म को समझने की कोसिस करता था पर उनके विचार और पुस्तकों के ज्ञान में मतभेद होता था फिर मैंने आपका चैनल देखना चालू किया और सच पूछिए तो अब मैं धर्म ग्रंथ (गीता ) को पढ़ा और सत्यार्थ प्रकाश में ब्रमचर्य शिक्षा को भी पढ़ा।में आपके चैनल से 3 महीने से जुड़ा हुआ हूं।
    २-पुराणों में मिलावट किया जा सकता हैं और किया भी गया हैं भागवत कथा में भी भगवान कृष्ण के कुछ प्रसंग के साथ मिलावट हुईं हैं।कोई भी वेद में मिलावट तो दूर उनके मात्रा तक को नही बदल सकता क्योंकी इस से उनका अर्थ ही बदल जायेगा।तथ्यात्मक दृष्टि से हम मिलावट को पकड़ सकते हैं और सबसे उपयुक्त हैं vedicpress.in जहाँ से मैन सत्यार्थ प्रकाश आर्डर किया हैं विसुद्ध स्वरूप अमुल्य ग्रंथों हैं इनके पास।
    ३-हिन्दूओं का उत्थान अपने धर्म को समझने से होगा और धर्म ग्रंथ को समझना आसाम नही हैं इसके लिए अथक पुरुसार्थ ही आवश्यक्ता होगी और अहिंसा परमो धर्म के आलावा उन्हें कल्कि स्वरूप में रहना होगा।
    ४-मनुष्य सदा परम सुख की प्राप्ति के लिए प्रयत्नशील रहता हैं।जो सभी छनिक सुख में ढूंढते हैं पर वह केवल परम ज्ञान को प्राप्त कर ही पाया जा सकता हैं।
    ५-मतभेद हो सकते हैं पर मनभेद नही होना चाहिए क्यों कि हमेसा आपसी फूट के सहारे ही 1300 साल तक हम गुलाम रहे कभी इन मुसलमानो की और फिर ईसाइयों की।
    ६-मनुष्य को अपने धर्म का प्रचार और सेवा ही महान बनाता हैं सेवा में प्रकृति सेवा ,गौ सेवा,आत्म सेवा,जनकल्याण सेवा ।पर आज लोग इसको दिखावा मानते हैं जो बिल्कुल गलत हैं समय की कमी हैं वरना बहुत कुछ लिखता।
    ७-मेरा गुण जो मुझे प्रिय हैं वो स्वाध्याय करना हैं और में आपके जितना तो नही पर पुरुसार्थ करने से पीछे नही हटूँगा।
    ८-मेरा अवगुण क्रोध करना है जो ज्ञान प्राप्ति में बाधा उत्पन्न करता हैं पर ॐ के पाठ से अब मन शांत रहता हैं।
    ९-हां में ॐ का जाप सुबह योग करते समय करता हूँ।साथ में पूजा करते समय ११ बार गायत्री मंत्र का जप करता हूँ।
    १०-मैं बस इतना कहना चाहूंगा की जीवन मे सही दिशा में कोशिश करते रहें जो हो गया उस से सीख ले कर जीवन में आगे बढ़े और हमेशा याद रखे जो आप बोएंगे वही तो काटेंगे इसलिए ज्ञान और सत्य के बीज मन में बोये और दूसरों को भी सदमार्ग पर एक साथ एकजुटता में आपसी मतभेदों को मिलकर चलने का प्रयत्न करें।

  45. 1. हमारे जीवन मैं यह परिवर्तन आया कि हम पहले से और भी ज्यादा गंभीरता से किसी सब्जेक्ट पर अब ज्यादा सोच सकते है। वो जो यूरोपीय की साइंस है वो भारत की ही देन है जैसे कि दही मैं गुड़ क्यों डालना नामक क्यों नही यह समझा, हमारे ऋषियों ने ये बात पहले ही समझ ली थी कि दही मैं माइक्रो ऑर्गनिस्म होते ही जो गुड़ मैं अछे से बढ़ते है, और नमक डक़लने वो मरते है। इससे कई बातों का पता चला।
    2. लेखक अपनी बातों का विरुद्ध बातें करे अर्थात एक जगह लिखे की मांस खाने से हमे हानि होगी और दूसरी जगह लिखे की मांस खाने मैं कोई हानि नही है, इसप्रकार से हम धर्मग्रंथों में मिलावट पेहचान सकते है।
    3.धर्मग्रंथों को पढकर ही हिंदुओ का उत्थान होगक। अपने आप को पहचानकर ही आप आगे बढ़ सकते है वो समाज को आगे ले जा सकते है।नही, क्योंकि राहुल आर्य जी मानव हीत के लिए कार्य कर रहे है, वो उस आइडियोलॉजी को बदल रहे है जो मानव हीत के लिए नही है।
    4.अकेले छोड़ देना चाहिए।
    5.ज्ञान की प्राप्ति के लिए।
    6. मनुष्य को उसके विचार, कर्म और सोचन शक्ती महान बनाते है। अच्छे विचार वाले मनुष्य अच्छे कर्म करते है, अच्छे कर्म करने वाले अच्छे सोच रखते है। इससे उसकी उन्नति और समाज की उन्नति होती है।
    7. इमानदारी।
    8.भोग किसी प्रकार का।
    9. हाँ।
    10. जिज्ञासु बनो। मेरी जीवन मे एक सवाल आया की कयक भारतीय ऋषयो का देश है। पर क्या इस देश मे सचमुच विज्ञान इतना आगे था कि इस देश को कोई पीछे नही कर सकता था।एक महासभा में गया था मे उस सभा मे जो चीफ गेस्ट थे वो कुछ सूडो साइंस के बारे मे बता रहे थे उनका कहना था कि अगर भारत इतना आगे था साइंस एंड टेक्नोलॉजी मे तो वो साइंस और टेक्नोलॉजी गया किधर। महाशय को देने के लिए मेरे पास उत्तर तो था पर एविडेंस नही थे, संकल्प किया की हम इन महाशय को उत्तर जरूर देंगे। किताबे पढ़ना चालू किया , इसी बीच यूट्यूब पर dixit जी से मुलाकात हुवी , राहुल आर्य, अमित आर्य, मिलान आर्य,अंकुर आर्य, अनेको भइयो से मिले और हमे और जने मिला।
    Name: Vikram Ashok Jha
    Mobile. No. 9028840977
    Address : Room no. 302, Mohan hills, near dimple hospital, radhakrishna nagar, mharalgaon, murbad road, shahad, kalyan( west) , Maharashtra.
    Pincode-421301

  46. (1) thanks bharat से हमारे जीवन मे क्रांतिकारी परिवर्तन आ गया । Thanks bharat से हमने अपने धर्म के विशुद्ध रूप को समझा और हमारी अपने धर्म के प्रति आस्था बढ़ी हमने अवतारवाद मूर्तिपूजा जैसे पाखंडो से दूर रहना शुरू कर दिया और कोई भी विधर्मी हमारे सामने टिक नही पाता है
    हमें धर्म को जानने और धर्म व राष्ट्र के लिए अच्छे कार्य करने की प्रेरणा मिली और हम इसके लिए प्रयासरत है

    (2) १ एक धर्मग्रंथ में कोई दो विरोधी बाते नही होगी
    २ कोई भी वेदविरुद्ध बात नही होगी
    ३ धार्मिक ग्रंथो में कहानिया नही होती है। आदि
    (3) हिन्दू धर्म का उतथान स्वयं को पहचानकर होगा। जब सभी खुद को पहचाने लगेने की हम कौन है? और हमारा धर्म के प्रति क्या कर्त्यव क्या है तो धर्म का उथान हो जाएगा
    Rahul arya सिर्फ धार्मिक पाखंडो पर आघात ही नही करते बल्कि उसका कारण और सत्य से भी अवगत कराते है
    5मोक्ष प्राप्ति
    6) मनुष्य को उसके कर्म महान बनाते है क्योंकि वह अपने कर्मो से ही अच्छा व बुरा कहलाता है
    (7) दयाभाव
    8 लालच
    9 नही लेकिन अब धीरे धीरे प्रयास कर रहा हु
    10 अभी स्मरण में नही है।।
    4 व्यहवार छोड़ देना चाहिये

  47. 1. Thanks Bharat you tube channel ki vajah se mein Apne Hindu dharma ko jyada nazdik se Jaan paa raha hoo. Is channel ki ek khasiyat hai ki ye sab tathyapoorna batate hai. Thanks Bharat channel ki madad se grantho mein angrezo ne milavat ki hai iske baare mein pata chala aur iske liye unka thanks
    Aur sir ki madad se mein Jaan paya ki ved ishwariya gyan hai aur kitne mahaan hai aur is vajah se mein ved padhne ke liye motivate hua hoo. Mein ek science student hoo aur vedon mein pure science hai isliye bhi mein ved padhna chahta hoon. Sir ki madad se mein vedo ki mahaanta Jaan paya aur padhne ke liye motivate hua hoo.

    2. Jaisa ke sir ne bataya Ramayana ka example dekar ki – koi ek shlok hai maanlo us se related agar agla shlok nahi related lagata ya phir bichhme hi koi dusri baat prarambh ho jaaye toh usme milavat hai. Is se book ki length badh jaati hai jaise sir ne ek video mein Ramayan, Mahabharat ki book dikha kar samjhaya.

    3.Sir Hinduo ka utthan hoga khud Ko khud ke itihaas Ko Pehchan kar. Hamari poorani systems jo aaj bhi kaargar saabit ho Sakti hai unhe dobaara laakar example education system. Hamara education system jo angrejo ne tabaah kar diya use vaapas la kar i.e Gurukul paddhati. Sir aaj kal tv par gandi chize dekh kar hamare yuva pidhi galt Disha mein Chali jaati hai unka bramhacharya naash ho jata hai aur is se bhayankr chize Hindu samaj mei fail gayi hai toh agar Gurukul Shiksha vapas prarmbh ho jaye toh log guru ke guidance mein rahenge aur achha charitra nirmaan karenege aur ved bhi padhenge jiski madad se hum hamre rashtra Ko nahi uchayion par le ja payene
    Rahul bhaiya aayina dikhate hai booraiyo par kuritiyo par kada aaghat karke sahi karte hai aur Satya Ko ujagar karte hai.

    7. Sir mein kabhi cheating karna pasand nahi karta aur mein chahta hoon ki mein Apne is imaandari ke goon Ko kabhi nahi chhodu. Isliye jo sawaal mujhe aate hai mein unke Uttar poori imaandari se doonga cheating. Nahi karunga matlab kuchh bhi man se nahi daalonga poori sacchai se Uttar doonga

    8. Sir baar baar Apne kartavya path vimukh ho jaana ye avgun hai jo mein chhodna chahta hoon

    5. Sir pratyek praani Khushi aur Samadhan paane ka prayatna karta hai. Ku ki Khushi Samadhan paane ke liye log job karte hai paise kamate hai jise unka parivaar chalta hai aur unhe Samadhan milta hai Sir alag log alag chizo se Samadhan pate hai jaise kisiko samajseva se Samadhan kuhsi milti hai

    6. Manushyo Ko mahan unke Sanskaar banate hai foundation banate hai woh kehte hai na ki jis imarat ki neev majboot woh imarat majboot

    9. Sir mein om ka jaap nahi karta roj lekin Shrimadbhagvad gita padhta hoo aur roj Kanha ji ke naam ka jaap karta hoon

    10. Jan mein Chhota tha school jata tha toh mujhe ek Baar kisine ber lane ke liye 5 rs diye mein voh ber le aaya lkin woh admi vaha tha nahi jis vaja se meine woh kha liye the badmein woh admi aaya toh mere paas ber nahi the woh meri galati thi meine badme mafi mangi
    Ye ghtna mujhe aajtak kisi Ko bhi Dhokha dene se roktj hai aur mein chahunga ki log is se samjhe aur kisiko bhi Dhokha na de
    Name – Akshay D kadu
    Address – Sai Krupa nivas apt Upadhyay road Mahal nagpur
    Phone no.- 8208032587

  48. 1. मैने अपने धर्म सनातन की महानता और हमे अंधेरे में रख कर बेबकूफ बनाने वाले को पहचान पा रहा हु.

    2.विषय वस्तु का तत्काल बदल कर विरोध जब सुरु हो जाये.
    3. जी प्रमाण के साथ, सनातन वैदिक गुरुकुल शिक्षा प्रणाली को अपना कर.
    4.एक दूसरे का साथ दे और धर्म के कार्य मे हाथ बटाए.
    5. मोक्ष,जन्म मरण चक्र से मुक्ति भगवान विष्णु के परमधाम.
    6.व्यक्तित्व की महानता उसके त्याग से है.
    7.अपने धर्म के प्रति सजग और हर परिस्थिति के लिए तैयार.
    8.किसी भी अजनवी पर आंख बंद कर के विस्वाश (भारतीय की निशानी) कर लेना जिसे दूर करने की बहुत कोसिस कर रहा हु.
    9.जी अपने गुरूमंत्र और ॐ का जाप प्रतिदिन करता ही.
    10.हमारे गाँव के लोग मुझे पागल साबित कर दिए 2014 में मैन अपने धर्म को जानना सुरु किया फिर और ध्यान और किया फिर सब ठीक हो गए.

    Ranjeet kumar
    mobile 7667038869
    ranjeetkrp2011@gmail.com

  49. 1. Thanks bharat ke wajah se mujhe satya ka abhaash ho raha hai . Mai pehle bahut secular tha par jab mujhe humare itihaas ke baare me pata chala tab mujhe imaan walo ki asliyaat samajh aa gayi.

    2. Dharm grantho me milawat ko pehchanne ke liye jis granth me kaaran sahit karya na ho aur prasag ke virudh baat aa jaye wo milawat ko pehchanne ka tarika hai.

    3. Hinduo ka uththan vaidic marg par chalkar hoga. Hume dusre ki buraio se pehle khud ki buraio ko durr karna hoga magar agar humne dusro ki buraio ko nazarandaz kiya to unki burayina humme bhi aa jayengi iss liye hume maharishi dayanand ji dwara bataye marg par chalkar pratyek burai ka pura virodh karna chahiye chahe wo kahi bhi kyo na ho. Rahul arya ji bilkul sahi karya kar rahe hai wo na kewal dusro ki buraiyon par kathor hai magar vaidic dharm me aayi buraiyon par aur adhik kathor hai jo sahi hai.

    4. Hum ek dusre ko gaali dene ke sthan par shatrath kare to samadhan pakskh ke taraph badenge. Humare matbhed to ho jaye theek hai par maanbhed na ho paye.

    5. Pratek prani sukh ki prapti ke liye prayatn karta hai. Sukh ki hi antim awastha ishwar prapti hoti hai.

    6. Manushya ko uske karm mahaan baanate hai… kyonki hum sabhi karm ke anusaar hi ek dusre se bhinn hai baaki sab sabme samaan hai.iss desh me osho bhi hua aur dayanand ji bhi magar ye unke karm hi hai jo maharishi ji ne apne prano ka tyaag muskuraate hue kiya aur osho ki maut ek jaanwar ki tarah hui.

    7. Satya marg par chalna. Aur asatya ka pata chalte hi usee tyaag dena.

    8. Laalach ko tyagna aur mai isse durr karne ke liye prayatnsheel hu.

    9. Nahi par maine aaj nav warsh par pran liya tha aur nav warsh ke uplakh par iski suruaat kar di hai.

    10. Pehle mai aastik tha par jab maine samaj mai dhong aur pakhaand ko samajhna suru kiya to mai nastik ho gaya magar jab jio ka net aaya tab maine thanks bharat satya sanatan chaannel ko dekha aur samjhna suru kiya aur phir mujhe sachaai samajh aane lagi. Humara pariwaar arya samaji suru tha magar mere dada ke dehaant ke baad dhere dhere samaj ke prabhav se mere ghar bhi murti puja aur tv serials dekh dekh kar sab poraanik ho gaye hai magar mujhe ab sach ka pata chal raha hai aur mai jaroor ek din apne ghar walo ko bhi sach bataunga.

    Rajan gupta

    No. 6389286892

    Address. Chowk bazar ikauna shrawasti up

  50. Om
    1. Thanks Bharat dekhne s phle m hindu dharam m fale milavat, jhuth,pakhand k karan m NASTIK banna suru kar diya tha
    Lakin aapki videos s mane dubara Ishwar k bare m jana or mane gyot aadi jo kriya kalap bandh kar diye the vo punh suru kar diye. mane apni mata k andhvishwas ko toda

    2. Agar achanak s parakaran k virudh bat suru ho jiye to jise hanuman samundar m swim kar k gye lekin agle hi slok m likh diya k kabhi vo badalo k upar kabhi niche.

    3. Hindu jab VEDO ki or lote ga sirf uska hi uthaan hoga isliye MAHARISHI DAYANAND JI n kaha tha k vedo ki or loto
    Sath sath hindu m ekta param avsak h
    Hame syam ko phachanna hoga
    Aap kuritiyo par bhout parbhav sali tyrah hamla karte ho examples k sath , aapne mujhe nastik hone s bachaya hindu dhram m phakhand, andhvishwas k bare m jagruk karte ho

    4. Gali dene k sthan par unse VEHVAR
    karna hi bandh karna chiye unse MANBEDH nahi karna chiye

    5. Partek prani bhotik sukh ki prapti k liye kosis karta h jabki use jyan ki prapti tha dharam(dharan karne yogy) ki gyan k liye kosis karne hiye Nation building m sahyog dena chiye.

    6. Karam and high values
    Manush ko sahi karam karne chiye nissvarth man s kam karna chiye
    Down to earth nature

    7. Mare naye naye chije Sihne k will m bhout si nayi nayi cije sikhna chata hu kyoki m har kam m sikhna chata hu

    8. M smoking bhout karta hu din m 20-30 bidi ya cigarettes jarror pita hu niyam sa ban gya h isko chodna chata hu

    9. Partidin nahi
    Sirf jam m dukhi ya bilkul akela mahsus karta hu tab usse man ko santi milti jaror h

    10. M kamjor logo ki shayta jaror karta hu

    Neeraj kumar
    Bilaspur khurd
    Gurgaon
    8053405588

  51. 1 उत्तर अंधविश्वास से सत्य की ओर जो जैसा है वैसा मानने लगा हु । हमारे महापुरुष गुणों को धारण करने का निरन्तर प्रयास कर रहा हु ।मेरी विचारो में सकारात्मक परिवर्तन हो रहा है।
    2उत्तर जो जो वेद और प्रकृति के अनुकूल है वह सत्य है
    जो विरुद्ध है वह असत्य । कारण सहित कार्य हो पूर्व प्रकरण से जुड़ा होन चाहिए इससे किसी मिलावट जाना जा सकता ह
    3 उत्तर गुरूकुलीय शिक्षा एवं पाखण्ड को दूर करके स्वाभिमान ओर स्वावलंबन होने पर ।राहुल आर्य समाज में फैले अंधविश्वास खत्म करने में लगा जिससे सनातन धर्म का पतन हुआ
    4 उत्तर
    5 उत्तर मोक्ष
    6 उत्तर चरित्र
    7 उत्तर सत्य को जानने।
    8उ

  52. No. 1 vision of my life is clear and I know how I face my problem and what are the actual problem of me and society
    No.2 They are not in sequence topic is for something and some line are for something
    No.3 To know about real dhram Satya sanatan and I think Rahul arya said truth and some people are don’t like because they are in old mentality
    No.5 moksh
    No. 6 down to earth no ego
    No. 7 to make realtion with other for friend and society
    No.8 I feel like I am not able to do anything I think I am smaller than all people
    No.9 yes when I watch Bhai ankur arya video and Bhai Rahul arya video and at morning to my mom
    No. 10 help of needed people many time I help other if I also in trouble but then God help me so help other God will help you
    No . 4 I don’t see so I don’t know
    Phone no. 7404387150

  53. Name Ashutosh Patangrao
    Address shree ganesh apartment varkhade nagar katraj pune 411046
    Mo no.8605810144

  54. 1 थैंक्स भारत देखने से मुझे सत्य वेदिक धर्म का ज्ञान हुआ
    2विपरीत adhayayo और परस्पर विरोधी बातो से
    3वैदिक dharam पर लौट के गुरुकुल शिक्षा से ।।आप जो प्रयास कर रहे हो वह पूरी तरह रंग ला रहा हे
    4 अलोचना के लिये
    5इश्वर प्राप्ति के लिये प्राणी प्रयासरत हे
    6
    आत्मज्ञान से मनुष्य महान बनता हे
    7 किसी की बात को बुरा मानने की आदत नही हे मुझमे
    8गुस्सा आता हे तो बहुत ज्यादा आता हे
    9जप करते हे लेकिन प्रतिदिन क्रम से नही
    10,,,,

  55. 1- Pahle main secular thi, esa lagta tha agar humare yaha sare bhagwan ek h bs puja karne ka tarika ek h to agar muslim bhagwan ko allah bol kar puje to kya fark padega, kintu thanks bharat se inke dogle pravarti k hone ka pata chala or ab me khud b satark rahungi or apne mitro , parivar jano, milne walo ko b satark karungi.

    2- Agar kisi granth me kisi sthan pr do bato me virodhabhas hota h, pahle manushya /prakarti/pashuo ko bachane ki baat ho or kuchh der baad unko marne ki baat ho athwa koi baat samapt hone k baad kuchh page chhodkar jb dusra vishay arambh ho chuka ho fir b bich me yadi pahle kahi baat ko khandan kiya jana dikhayi de to wo bilkul mahamilawat h.

    3- Hinduo me jagrati ayegi, dusre mat , sampradaye kesa khel khel rahe h ye baat jab jan jan me pahuch jayegi or jab hindu ek hokar apne atmsamman, sanskrity, or manawta k liye ladenge or apne dharm me sudhar karenge tab hinduo ka utthan hoga .

    4- Nahi pata.

    5- Ishwar ki prapti k liye .

    6 Aradhana yaa upasana jise aajkal dikhawa kahte bhi h or kuchh log dikhawa karte bhi h.

    7- Atmsamman.

    8- Aalas ( I am lezzy 😂)

    9- Roz nahi .

    10- Kuchh do saal pahle jab mere man me kisi man sampraday k liye koi matbhed nahi tha , me ek job karti thi. Waha sabhi jati k log job karte the or muslim kewal 2 the. Yaha tak ki waha raajput or sikkha b the jinhe bada bahadur samjha jata h. Mere pita ne humesha mujhe kisi ki galat baat nahi sahne ki shiksha di h or hume babao k pakhand se b dur rakha h. Kintu vrat upwas karte h kyuki brahmmin kul se ate h. Uss samay navratri chal rahi thi yahi chetra ki. Sikkha bhai b vrat rakhte hain humare yaha v raajput b v alag jatoyo k ladke v ladkiya vrat rakhte h. Uss samay ve log tilak lagakr ate h kyuki ek to subha puja ki hoti h ve dusra tilak mitaya nahi jata. Mene vrat nahi kiya kintu puja me sammilit hui thi to tika mere b tha.
    Ek muslim ladka jisko waha afzal guru k naam se bulane lag gaye the kyuki wo islam ka orachar karta tha. Ek navratri ko idhar udhar jakr kabhi sikkh bhai k pas kabhi kisi dusre ladke k paas kabhi kisi ladki k paas jakar burai kar ra tha ye vrat karke kya hoga? Isse to kuchh hota nahi h, ye to pakkhand h. Koi kuchh nahi bola. Kisi ne awaj nahi uthai.
    Uski badkismati ki wo akar mere pass b aakr bola, mere gusse ka bandh tut gya or mene bola tu roza rakhta h? Usne kaha haa. Mene puchha kyu pakhand karta h? Wo bol nahi paya usse pahle hi mene bola suar khayega 😂 bola me ye nahi bol ra tha fir mene bola tu hota kon h btane wala kisko kya karna chahiye kya nahi. Teri okat kya h? Wo bola thik h pr badtameez mere pass bethe ek ladke ko bolne laga ki are me to ye bol ra tha tumhare vrat karne se kya hoga. Me khadi hui boli uth ra h shanti se ya jute kha kar hi uthega. Wo bola ki me aapse baat nahi kar raha.
    Tazzub ki baat ye h ki itne badi jatiyo ki haankne wale ki hum bahadur h. Hum ladaka h. Koi nahi bola sab chupchap dekh rahe the. Ladke tak sab chup. Or wo kewal do muslim the. Fir b koi kuchh nahi bola.

    Fir mene uske upr chilla kar ki aaj k baad bakwas ki tk yaha se jaa nahi payega ghar tab jakar wo dar gya or dusre din se usne kabhi kisi ko kuchh nahi bola.

    Kintu dekhne wali baat ye thi ki koi sath nahi aata. H . Jago hinduo. Kaha gya shorya?.

  56. १- थैंक्स भारत की शुरुआत से ही मै आपका दर्शक रहा हु , आपके सब वीडियो देखने से मेरे जीवन में बहुत सारे परिवर्तन आना शुरू हो गए, अपने सनातन धर्म के विशुद्ध ग्रंथो की जानकारी हुयी, कैसे आज का समाज अंधकार में है धर्म के नाम पर उनको उस अंधकार से बाहर निकालने की प्रेरणा मिली, अपने सभी मित्रो परिवारजन को सही रास्ता दिखने की कोशिश करने लगा, इसके अलावा सत्य को ठीक ठीक जानना और अपनाना सीखा, तथा लोगो को सत्य का ज्ञान हो इसकी कोशिश, देश दुनिया में चल रहे षडयंत्रो को जानना सीखा, इसके अलावा आपसे प्रेरणा लेकर मै भी आपके साथ मैदान में कूद गया हु, भारत में तो कई लोग कार्यरत है, में बहार के देशो के लिए अब शुरुआत कर रहा हु, ॐ का परचम पुरे विश्व में फहराने की दिशा में कार्यकर रहे है.
    २- मिलावट पहचानने के लिए ध्यान रहे विपरीत बाते ना हो, पहले कुछ और कहे, फिर उसके विपरीत बात क्र दे, जैसे विरोधाभास ना हो, एक लय में बात चले, उदाहर के लिए अभी खाने की बात बीच में राज्य से सम्बंधित बात ना हो, जिस व्यक्ति ने लिखा है ग्रन्थ को वह अपना ही नाम लेकर नहीं लिखता तो ऐसे भी पहचान सकते है, udahar के लिए manusmriti में मनु महाराज ऐसा नहीं लिख सकते की ” मनु महाराज ने कहा या लिखा की ..”, कोई बात विज्ञानं विरुद्ध ना हो/
    ३- राहुल आर्य कोई अत्यधिक कठोर आघात नहीं करते, देश धर्म षड़यंत्र लोगो को सही सही समझने के लिए जो जरुरी है वह बोलते है, यह राहुल आर्य नहीं हर सनातनी और भारतीय का कर्त्तव्य है अपने धर्म और देश के प्रति जो राहुल आर्य कर रहे है वह सभी करे, देश के कोने कोने से राहुल आर्य निकले तभी दुनिया में सनातन धर्म का डंका बजेगा, और इसी में हिन्दुओ का उत्थान है, स्वयं को जानकर और करोडो राहुल आर्य बनकर
    ४- आपसी मतभेद सुलझाकर भूलकर आपसी सहयोग की भावना होना
    5- मोक्ष प्राप्ति ही अंतिम लक्ष्य होता है
    ६- दिमाग, ज्ञान और सही गलत पहचानने की क्षमता
    ७- सत्य को ठीक ठीक जानना और अपनाने का गुण
    ८- स्वाध्याय को काम समय देना या कहे तो दैनिक तथा पारिवारिक कार्यो में व्यस्तता की वजह से , फिर भी यह एक अवगुण है जिसे में धीरे धीरे दूर करने का प्रयास कर रहा हु तथा धार्मिक स्वाध्याय करना शुरू किया है
    ९- हां, व्यायाम तथा ॐ का जप , यज्ञ भी शुरू करने की कोशिश करूंगा
    १०- पहले धर्म वगैरह का अज्ञान था, सेक्युलर था , वही सोचता था जो आज के मॉडर्न हिन्दू सोचते है बाद में आपसे सीखा काफी ज्ञान और सब चीजों को पहचाना , ऐसा ही सबके साथ होना चाहिए , सेक्युलर बन कर देश की बर्बादी तय है
    प्रकाश सिंह
    9910491595
    prakashshekhawatt@gmail.com
    पता आपको मेल अथवा व्हाट्सप्प पर दे सकता हु

  57. 1:- Dharma ke bare Mai aur Satya ka arth samhh aaya
    2:- Tathya lagakr
    3:- khud ko aur apne Dharma ko pehchan kar.
    Sanatan Dharma kisi aur ko bura keh kar ya prachar karke nahi toh Satya Aur vigyan pr based hai.
    4:-
    5:- Vani gyan ke prapti ke liye prayatna karte hai
    6:- manushya ko uska Gyan mahan banata hai
    7:- Satya bolne ka gun
    8:- Ahankar
    9:- Ha
    10:- Bata nhi sakta

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *